PM मोदी ने शेख हसीना से फोन पर की बात, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सहयोग पर हुई चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   09:28
PM मोदी ने शेख हसीना से फोन पर की बात, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सहयोग पर हुई चर्चा

पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री शेख हसीना से बात की और उन्हें एवं बांग्लादेश के लोगों को रमजान के पवित्र महीने पर शुभकामनाएं दी।’’ उन्होंने कहा कि हमने कोविड-19 की स्थिति के साथ साथ इस बारे में भी चर्चा की कि भारत एवं बांग्लादेश इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में किस प्रकार से सहयोग कर सकते हैं।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को रमजान की शुभकामनाएं दी और कोविड-19 की स्थिति एवं इस महामारी से मुकाबले के लिए दोनों देशों के बीच सहयोग के मुद्दे पर चर्चा की। मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘‘प्रधानमंत्री शेख हसीना से बात की और उन्हें एवं बांग्लादेश के लोगों को रमजान के पवित्र महीने पर शुभकामनाएं दी।’’ उन्होंने कहा कि हमने कोविड-19 की स्थिति के साथ साथ इस बारे में भी चर्चा की कि भारत एवं बांग्लादेश इस महामारी के खिलाफ लड़ाई में किस प्रकार से सहयोग कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन की अवधि तीन मई से आगे बढ़ाने के स्पष्ट संकेत दिए

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘बांग्लादेश के साथ हमारे संबंध हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता में बने रहेंगे।’’ गौरतलब है कि कोरोना वायरस महामारी के कारण उत्पन्न चुनौतियों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले कुछ समय से दुनिया के विभिन्न देशों के शासनाध्यक्षों के साथ इस संकट और इससे निपटने के उपायों पर चर्चा कर रहे हैं। बाद में जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर क्षेत्रीय स्थिति पर चर्चा की और एक दूसरे को अपने-अपने देशों में इसके प्रभावों को कम करने के लिए उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।