रिज मैदान पर तिरंगा यात्रा निकालने पर विधायक विक्रमादित्य सिंह पर पुलिस ने मामला दर्ज किया

रिज मैदान पर तिरंगा यात्रा निकालने पर  विधायक विक्रमादित्य सिंह पर पुलिस ने मामला दर्ज किया

रा मामला खालिस्तानी आतंकी संगठन एसजेएफ की धमकी से जुड़ा है। संगठन के नेता पुन्नू की ओर से विक्रमादित्य सिंह को धमकी दी गई थी कि वह 29 मार्च को शिमला में खालिस्तान का झंडा फहराएंगे। जवाब में विक्रमादित्य सिंह ने शिमला के रिज मैदान पर तिरंगा यात्रा निकाली।

शिमला। हिमाचल प्रदेश पुलिस ने पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बेटे हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव व विधायक विक्रमादित्य सिंह और युवा कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष यदुपति ठाकुर समेत सहित अन्य नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। यह एफआईआर शिमला में रिज मैदान पर तिरंगा यात्रा निकालने पर दर्ज की गई। शिमला के सदर थाने में पुलिस ने केस दर्ज किया है। इन नेताओं पर धारा-144 तोड़ने और नारेबाजी करने का आरोप है। इन सभी के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है।

 

दरअसल, पूरा मामला खालिस्तानी आतंकी संगठन एसजेएफ की धमकी से जुड़ा है। संगठन के नेता पुन्नू की ओर से विक्रमादित्य सिंह को धमकी दी गई थी कि वह 29 मार्च को शिमला में खालिस्तान का झंडा फहराएंगे। जवाब में विक्रमादित्य सिंह ने  शिमला के रिज मैदान पर तिरंगा यात्रा निकाली। उनके साथ कांग्रेस नेता यदुपति ठाकुर, समेत युवा कांग्रेस के वर्कर मौजूद थे। इस दौरान सीटीओ के पास पुलिस ने सभी को रोका था। लेकिन आरोपी नहीं रुके और रिज मैदान पर नारेबाजी की और तिरंगा फहराया।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल में भाजपा का मुकाबला कांग्रेस ही करेगी तीसरे मोरचे की कोई संभावना नहीं , मुकेश अग्निहोत्री

शिमला पुलिस की तरफ से अब हिमाचल के पूर्व सीएम दिवंगत वीरभद्र सिंह के बेटे और शिमला ग्रामीण से विधायक विक्रमादित्य सिह, युवा कांग्रेस नेता यदोपति ठाकुर, छत्तर सिंह, राहुल मेहरा, वीरेंद्र बंशु, अमित ठाकुर, राहुल चाहौन, दिनेश चोपड़ा, दीपक खुराना और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

इसे भी पढ़ें: शहरी विकास मंत्री ने हरदीप सिंह पुरी से भेंट की

तिरंगा यात्रा निकालने पर केस दर्ज होने के बाद कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि तिरंगा फहराने पर हमारे ऊपर केस दर्ज हुआ है। लेकिन कोई बात नहीं, हम तिरंगे के सम्मान के लिए भुगत लेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।