सियासत केवल सत्र बुलाने के लिए नहीं, इसके पीछे भी सियासत है: भाजपा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   21:51
सियासत केवल सत्र बुलाने के लिए नहीं, इसके पीछे भी सियासत है: भाजपा

विधानसभा अध्यक्ष द्वारा कांग्रेस के नाराज विधायकों के नोटिस को लेकर पूछे गये सवाल का जवाब देते हुए पूनियां ने कहा कि इसमें मुख्यमंत्री गहलोत का षडयंत्र है कि 19 विधायकों को पार्टी से बाहर कैसे निकाला जाये यह सारी साजिश उन्होंने रची है।

जयपुर। राजस्थान विधानसभा सत्र बुलाए जाने को लेकर राज्यपाल और सरकार के बीच जारी गतिरोध के बीच भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस की सियासत केवल सत्र बुलाने के लिए नहीं है बल्कि इसके पीछे भी सियायत है। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने सोमवार को यहां कहा, ‘‘सरकार विधानसभा सत्र बुलाने के लिए षडयंत्र कर रही है, वह अपने ही लोगों पर चोट पहुँचाने के लिए ऐसा कर रहे है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खुद से नाराज और निराश विधायकों को नुकसान पहुँचाने के लिए ऐसा षडयंत्र रच रहे हैं, जिसमें यह भी हो सकता है कि उन्हें अयोग्य घोषित करने का भी षडयंत्र रचा जा रहा हो। कहीं न कहीं यह सियासत केवल सत्र बुलाने के लिए नहीं, इसके पीछे भी सियासत है।’’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस के जो 19 विधायकों की नाराजगी की बात सामने आ रही है, उनको अशोक गहलोत कांग्रेस पार्टी से बाहर करने का षडयंत्र रच रहे है। विधानसभा अध्यक्ष द्वारा कांग्रेस के नाराज विधायकों के नोटिस को लेकर पूछे गये सवाल का जवाब देते हुए पूनियां ने कहा कि इसमें मुख्यमंत्री गहलोत का षडयंत्र है कि 19 विधायकों को पार्टी से बाहर कैसे निकाला जाये यह सारी साजिश उन्होंने रची है। 

इसे भी पढ़ें: अविनाश पांडे बोले, कांग्रेस के संपर्क में हैं पायलट खेमे के कई विधायक

उन्होंने कहा कि बसपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए छह विधायकों को लेकर विधायक मदन दिलावर की ओर से दायर याचिका को विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी द्वारा याचिका खारिज करने और इसी पर कार्यवाही को लेकर उच्च न्यायालय द्वारा अपील खारिज किये जाने को भाजपा फिर से अदालत में चुनौती देने की तैयारी कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारे विधि जानकारों से राय मशवरा किया जा रहा है, उसके बाद एक नई याचिका दायर की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।