भगत सिंह कोश्यारी का बयान, '...तो महाराष्ट्र में नहीं बचेगा पैसा', शिवसेना बोली- राज्यपाल ने किया शिवाजी का अपमान

Bhagat Singh Koshyari
ANI
अंकित सिंह । Jul 30, 2022 11:54AM
शिवसेना भगत सिंह कोश्यारी पर हमलावर हो गई है। शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने ट्विटर पर लिखा कि महाराष्ट्र में बीजेपी पुरस्कृत मुख्यमंत्री के काबिज होते ही स्थानीय मराठी और छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान शुरू हो गया है।

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के एक बयान को लेकर अब राजनीति तेज हो गई है। महाराष्ट्र के राजनीतिक दल भगत सिंह कोश्यारी के बयान को राज्य का अपमान बता रहे हैं। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी मुंबई के अंधेरी पश्चिम क्षेत्र में एक स्थानीय चौक पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। दरअसल, चौक का नाम दिवंगत श्रीमती शांति देवी चंपालताजी कोठारी के नाम पर रखा गया है। बतौर मुख्य अतिथि सभा को संबोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि कभी-कभी मैं यहां के लोगों से कहता हूं कि महाराष्ट्र में विशेषकर मुंबई-ठाणे से गुजरातियों और राजस्थानियों को निकाल दो तो तुम्हारे पास पैसा नहीं बचेगा। उन्होंने कहा कि यह मुंबई आर्थिक राजधानी कहलाती, वह आर्थिक राजधानी कहलाएगी ही नहीं।

इसे भी पढ़ें: उद्धव और आदित्य पड़ गए अकेले? रफ्ता-रफ्ता सारे बाला साहेब के करीबी और 'ठाकरे' को शिंदे अपनी तरफ करने में लगे

अब इसको लेकर शिवसेना भगत सिंह कोश्यारी पर हमलावर हो गई है। शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने ट्विटर पर लिखा कि महाराष्ट्र में बीजेपी पुरस्कृत मुख्यमंत्री के काबिज होते ही स्थानीय मराठी और छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान शुरू हो गया है। उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि स्वाभिमान और अभिमान के नाम पर बनी शिवसेना से निकलने वाले लोग यह सुनकर भी चुप बैठे हैं तो फिर शिंदे कभी शिवसेना का नाम ना लें। उन्होंने एकनाथ शिंदे से राज्यपाल का विरोध करने के लिए कहा। संजय राउत ने साफ तौर पर कहा कि यह मराठी मेहनतकशों का अपमान है। उन्होंने दावा किया कि इसी महाराष्ट्र में हिंदुत्व के लिए लड़ाई लड़ी है। ना केवल शिवसेना, हर कोई राज्यपाल के बयान की निंदा करता है। इसके साथ ही संजय राउत ने राज्यपाल को हटाने की मांग कर दी है।

इसे भी पढ़ें: एकनाथ शिंदे के समूह वाली शिवसेना और भाजपा मिलकर लड़ेंगे औरंगाबाद निकाय चुनाव

दूसरी ओर एनसीपी ने भी राज्यपाल के बयान पर आपत्ति जताई है। एनसीपी विधायक अमोल मितकारी ने कहा कि महाराष्ट्र और मुंबई के लोग कुशल और सक्षम हैं। हम ईमानदार लोग जो चटनी से रोटी खाते हैं वही दूसरों को भी खिलाते हैं। राज ठाकरे ने भी राज्यपाल के बयान पर अपना गुस्सा जाहिर किया है। उन्होंने कहा कि अगर महाराष्ट्र के इतिहास के बारे में आप नहीं जानते तो इस पर बात ना करें। हम आप का सम्मान करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि आप के बयानों से महाराष्ट्र के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची है। महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि हम महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा की गई टिप्पणी की निंदा करते हैं। उन्हें जनता से माफी मांगनी चाहिए। उन्हें तत्काल प्रभाव से उनके पद से हटाया जाना चाहिए।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़