ISIS की मैग्जीन पर छपी भगवान शिव की कटी सिर की फोटो, इस मंदिर की बढ़ाई गई सुरक्षा

ISIS की मैग्जीन पर छपी भगवान शिव की कटी सिर की फोटो, इस मंदिर की बढ़ाई गई सुरक्षा

ISIS द्वारा पोस्ट की गई यह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। फोटो के शेयर से कई जहगों पर तनावपूर्ण माहौल भी बन रहा है। कर्नाटक में सांप्रदायिक रूप से काफी तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। ऑनलाइन मैगजीन कवर में भगवान शिव की ऐसी तस्वीर से हिंदू संगठन बहुत गुस्से में हैं।

आतंकवादी संगठन आईएसआईएस की इंडिया-सेंट्रिक ऑनलाइन प्रोपेगेंडा मैग्जीन में हाल ही में एक पोस्ट में भगवान शिव की एक सिर कटी वाली प्रतिमा की तस्वीर लगाई गई है। आईएएनएस की रिपोर्ट के अनुसार, 123 फीट लंबी प्रसिद्ध शिव मूर्ति कर्नाटक में उत्तर कन्नड़ जिले के मुरुदेश्वर शहर के समुद्र तट पर स्थित है और यह बेहद ही प्रसिद्ध तीर्थ स्थल में से आक मानी जाती है। ISIS द्वारा पोस्ट की गई यह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। फोटो के शेयर से कई जहगों पर तनावपूर्ण माहौल भी बन रहा है। कर्नाटक में सांप्रदायिक रूप से काफी तनाव की स्थिति पैदा हो गई है। 

स्वयंभू विश्लेषक और पर्यवेक्षक अंशुल सक्सेना ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर यह तस्वीर पोस्ट की है। आतंकवादी संगठन की ऑनलाइन प्रोपगेंडा मैग्जीन द वॉयस ऑफ हिंद के फ्रंट कवर पर एक सिर कटी हुई शिव प्रतिमा की तस्वीर लगाई गई है जिसमें दिखाया गया है कि भगवान शिव के सिर की जगह ISIS का झंडा लगाया गया है। इस मैगजीन के कवर पेज पर यह भी लिखा गया है कि, झूठे देवताओं को तोड़ने का समय आ गया है। न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, ऑनलाइन मैगजीन कवर में भगवान शिव की ऐसी तस्वीर से हिंदू संगठन बहुत गुस्से में हैं।अंशुल सक्सेना द्वारा पोस्ट की गई इस तस्वीर के बाद कर्नाटक सरकार ने मुरुदेश्वर शहर में सुरक्षा कड़ी कर दी है।

इसे भी पढ़ें: ISIS से मिली गौतम गंभीर को जान से मारने की धमकी, पुलिस ने बढ़ाई घर की सुरक्षा

बता दें कि,  मुरुदेश्वर शहर भटकल शहर के बहुत करीब है और यह शहर भारतीय खुफिया एजेंसी की निगरानी में रहता है। आतंकी यासीन भटकल भी बटक शहर का रहने वाला है। मैगजीन के फ्रंट पेज पर भगवान शिव जी की मुर्ती है और शिव जी के सिर की जगह ISIS का झंडा लगा हुआ है। फोटो के नीचे इंगलिश में लिका है कि, It Is time to break the false god!





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।