जाट नेताओं के साथ अमित शाह की बैठक के बाद बोले प्रवेश वर्मा, जयंत चौधरी ने एक गलत रास्ता चुना है

जाट नेताओं के साथ अमित शाह की बैठक के बाद बोले प्रवेश वर्मा, जयंत चौधरी ने एक गलत रास्ता चुना है

किसान आंदोलन की वजह से जाटों में नाराजगी है और यही कारण है कि आज केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह ने जाट नेताओं के साथ एक बड़ी बैठक की है। यह बैठक भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा के आवास पर हुई।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दलों ने अपने-अपने समीकरणों को साधना शुरू कर दिया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जाट वोट बैंक को देखते हुए भाजपा भी उन्हें मनाने में जुट गई है। किसान आंदोलन की वजह से जाटों में नाराजगी है और यही कारण है कि आज केंद्रीय गृह मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह ने जाट नेताओं के साथ एक बड़ी बैठक की है। यह बैठक भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा के आवास पर हुई। बैठक के बाद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा कि जयंत चौधरी जी ने एक गलत रास्ता चुना है यहां के समाज के लोग उनसे बात करेंगे और उनको समझाएंगे। हमारा दरवाज़ा उनके लिए खुला है। हम तो चाहते थे कि वो हमारे घर में आए लेकिन उन्होंने दूसरा घर चुना है।

प्रवेश वर्मा ने आगे कहा कि आज यहां पर सभी पश्चिमी उत्तर प्रदेश जाट समाज के प्रमुख व्यक्ति आए थे, सभी ने गृह मंत्री के सामने अपनी तकलीफें रखीं और गृह मंत्री ने सबकी तकलीफें सुनी। बैठक के बारे में बताते हुए भाजपा सांसद ने कहा कि उन्होंने सबके सामने ये बात भी रखी कि उनके समाज और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए अभी तक क्या-क्या काम किए हैं और क्या-क्या काम करने जा रहे हैं। बहुत ही अच्छी बैठक हुई है और सभी ने गृह मंत्री को विश्वास दिलाया कि वो इस बार भी बीजेपी का समर्थन करेंगे।

इसे भी पढ़ें: पश्चिमी यूपी का रण में जीत के लिए बीजेपी का दाव, जाट नेताओं से गृह मंत्री अमित शाह ने किया संवाद

बैठक से पहले संवाददाताओं से बातचीत में केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि चुनाव से पहले इस प्रकार की बैठकें होती रहती हैं और क्योंकि कोविड-19 संबंधी प्रतिबंधों के मद्देनजर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बड़ी बैठक करना संभव नहीं था, इसलिए इसे दिल्ली में आयोजित किया गया है। उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान होना है। पहले चरण में 10 फरवरी को 11 जिलों की 58 सीटों पर मतदान होगा। इसमें शामली, मुजफ्फरनगर, बागपत, मेरठ, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, हापुड़, बुलंदशहर जिले प्रमुख हैं। दूसरे चरण में 14 फरवरी को नौ जिलों की 55 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। इसमें सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, बरेली, अमरोहा, पीलीभीत प्रमुख जिले हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।