राष्ट्रपति मुर्मू महारानी एलिजाबेथ द्वितीय की अंत्येष्टि में शामिल होने लंदन पहुंचीं

President Murmu
ANI
राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के राजकीय अंतिम संस्कार में शामिल होने और भारत सरकार की तरफ से संवेदनाएं व्यक्त करने के लिए शनिवार शाम तीन दिवसीय यात्रा पर लंदन पहुंचीं। महारानी के अंतिम संस्कार में दुनियाभर के शाही परिवार के सदस्यों समेत करीब 500 विश्व नेता शामिल होंगे।

लंदन। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के राजकीय अंतिम संस्कार में शामिल होने और भारत सरकार की तरफ से संवेदनाएं व्यक्त करने के लिए शनिवार शाम तीन दिवसीय यात्रा पर लंदन पहुंचीं। महारानी के अंतिम संस्कार में दुनियाभर के शाही परिवार के सदस्यों समेत करीब 500 विश्व नेता शामिल होंगे। अंतिम संस्कार वेस्टमिंस्टर एबे में होगा, जिसमें करीब 2,000 लोगों के शामिल होने की संभावना है। शोक समारोह स्थानीय समयानुसार सुबह 11 बजे शुरू होगा और एक घंटे बाद पूरे देश में दो मिनट के मौन के बाद समाप्त होगा।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था देश और दुनिया के लिए एक नजीर: योगी आदित्‍यनाथ

राष्ट्रपति भवन ने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के राजकीय अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए लंदन पहुंच गई हैं।’’ महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का आठ सितंबर को स्कॉटलैंड में बाल्मोरल कैसल में 96 वर्ष की आयु में निधन हो गया था। महारानी का पार्थिव शरीर वेस्टमिंस्टर हॉल में रखा गया है और उनका अंतिम संस्कार सोमवार सुबह वेस्टमिंस्टर एबे में किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: खरीफ बुवाई में कमी के बीच खाद्यान्न भंडार, कीमतों के प्रबंधन की जरूरत: वित्त मंत्रालय रिपोर्ट

राष्ट्रपति मुर्मू को रविवार शाम महाराजा चार्ल्स द्वितीय और क्वीन कंसोर्ट कैमिला द्वारा बकिंघम पैलेस में विश्व नेताओं के लिए आयोजित एक भोज में भी आमंत्रित किया गया है। इस ‘आधिकारिक राजकीय कार्यक्रम’ में ब्रिटेन आ रहे सभी राष्ट्राध्यक्षों और आधिकारिक विदेशी अतिथियों के शामिल होने की संभावना है। राष्ट्रपति मुर्मू शनिवार को वेस्टमिंस्टर हॉल जाएंगी, जहां महारानी का ताबूत रखा हुआ है। वह एक शोक संदेश पुस्तिका पर हस्ताक्षर करने नजदीकी लैंकेस्टर हाउस का भी दौरा करेंगी। महारानी के परिवार में 2009 और 2012 के बीच काम करने वाले जाकी कूपर का मानना है कि महारानी के ‘भारत के साथ स्नेहपूर्ण संबंध’ थे और उन्होंने एक साम्राज्य को राष्ट्रमंडल में बदलने में अहम भूमिका निभाई। राजशाही के बारे में व्यापक रूप से लिखने वाले कूपर ने कहा, ‘‘कई देशों की आत्म-निर्णय की इच्छा को पहचानते हुए उन्होंने राष्ट्रमंडल को अपनाया था।’’

महारानी के अंतिम संस्कार से कुछ घंटों पहले वेस्टमिंस्टर हॉल को आम जनता के लिए बंद कर दिया जाएगा। सोमवार को स्थानीय समयानुसार सुबह आठ बजे वेस्टमिंस्टर एबे के प्रवेश द्वार विदेशी गणमान्य एवं अतिथियों के लिए खोले जाएंगे। डीन ऑफ वेस्टमिंस्टर राजकीय अंतिम संस्कार की प्रक्रिया प्रधानमंत्री लिज ट्रस और राष्ट्रमंडल महासचिव बैरोनेस पैट्रिशिया स्कॉटलैंड के साथ करेंगे।

इस बीच, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन भी महारानी एलिजाबेथ द्वितीय को श्रद्धांजलि देने लंदन पहुंच गए हैं। उनके आधिकारिक शोक संदेश पुस्तिका पर हस्ताक्षर करने और शाम को बकिंघम पैलेज में भोज कार्यक्रम में हिस्सा लेने की संभावना है। वह सोमवार को महारानी की अंत्येष्टि में शामिल होंगे। बाइडन और प्रथम महिला जिल बाइडन का हवाई अड्डे पर ब्रिटेन के राजदूत जेन हार्टले, ‘लॉर्ड लेफ्टिनेंट ऑफ एसेक्स’ जेनिफर टोलहर्स्ट तथा अन्य लोगों ने स्वागत किया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़