• राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद हिमाचल विधान सभा सत्र को सम्बोधित करेंगे --विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार

भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद हिमाचल विधान सभा सत्र को सम्बोधित करेंगे। राष्ट्रपति 16 सितम्बर को शिमला पहुंचेंगे तथा 17 सितम्बर को उनका विधान सभा में आगमन तथा सम्बोधन होगा। उन्होंने स्वयंए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के साथ राष्ट्रपति को सादर निमन्त्रण राष्ट्रपति भवन दिया था । राष्ट्रपति ने निमन्त्रण स्वीकार कर शिमला आने का फैसला कर दिया है। राष्ट्रपति 19 सितम्बर तक हिमाचल प्रदेश राज्य के प्रवास पर रहेंगे।

शिमला विधान सभा में प्रैस वार्ता को सम्बोधित करते हुए विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने कहा कि हिमाचल प्रदेश विधान सभा में 17 सितम्बरए 2021 को हिमाचल प्रदेश प्रदेश पूर्ण राज्यत्व के स्वर्णिम जयन्ती वर्ष  के उपलक्ष्य पर एक दिवसीय सत्र का आयोजन से किया जायेगा।

 

 

 

उन्होंने कहा कि भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद हिमाचल विधान सभा सत्र को सम्बोधित करेंगे। राष्ट्रपति 16 सितम्बर को शिमला पहुंचेंगे तथा 17 सितम्बर को उनका विधान सभा में आगमन तथा सम्बोधन होगा। उन्होंने स्वयंए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के साथ राष्ट्रपति को  सादर निमन्त्रण राष्ट्रपति भवन दिया था । राष्ट्रपति ने निमन्त्रण स्वीकार कर शिमला आने का फैसला कर दिया है। राष्ट्रपति 19 सितम्बर तक हिमाचल प्रदेश राज्य के प्रवास पर रहेंगे। 

इसे भी पढ़ें: अनेक गुटों में विभाजित कांग्रेस, एक जुट भाजपा का मुकाबला नहीं कर सकती: रणधीर शर्मा

अपने दिल्ली प्रवास के दौरान उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ,  केन्द्रीय युवा सेवायें एवं खेल तथा सूचना एवं प्रसाण मंत्री अनुराग ठाकुर ,  भारतीय जनता पार्टी हिमाचल  प्रदेश के प्रभारी अविनाश राय खन्ना तथा सह प्रभारी संजय टंडन   को भी व्यक्तिगत रूप से निमन्त्रण दिया है। स्वर्णिम जयन्ती वर्ष पर आयोजित यह सत्र ऐतिहासिक है और उनका मानना है कि इस प्रदेश के विकास तथा नव निर्माण में जहां पूर्व में रहे सभी मुख्य मंत्रियों का यथासम्भव योगदान रहा है वहीं वर्तमान मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर  के कदम भी गतिशीलता तथा कर्मठता के साथ आगे बढ़ रहे हैं तथा वह भी इस प्रदेश का सर्वोच्च योग्यता तथा दृढ़ता के साथ नेतृत्व करते हुए विकास की दिशा में तेजी के साथ आगे बढ़ा रहे  हैं।

इसे भी पढ़ें: सी एम जय राम ठाकुर को दिल्ली से आया बुलावा , हिमाचल में सियासी महौल गरमाया

इस प्रदेश के निर्माण में पूर्व में रहे सभी जन प्रतिनिधियों की अहम भूमिका रही है। बतौर विधायक अपने अपने क्षेत्र के विकास में सभी ने गहरी रूची दिखाई है तथा यह तय किया है कि इस कार्यक्रम में उन्हें भी विशेष तौर पर आदर पूर्वक आमंत्रित किया जाये। इस कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री  शांता कुमारए प्रो0 प्रेम कुमार धूमलए राज्य सभा तथा लोक सभा के सभी वर्तमान एवं पूर्व सदस्य ए सभी पूर्व विधान सभा अध्यक्षए भाजपा तथा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष को भी आमन्त्रित किया है। सभी आमंत्रित अतिथियों के साथ प्रोटोकॉल अधिकारी तैनात किये गये हैं ताकि उन्हें किसी भी प्रकार की असुविधा न हो।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश के चंबा के तीसा इलाके में भयंकर अगिनकांड में चार लोग जिंदा जलकर मारे गये

परमार ने कहा कि सभी आमन्त्रित अतिथियों के ठहरने तथा खाने .पीने की समुचित व्यवस्था कर दी है तथा इस विशेष सत्र के आयोजन के लिए विधान सभा की सुरक्षा व्यवस्था को चाक.चौबद करनेए यातायात को सुचारू रखने तथा पार्किंग इत्यादि की व्यवस्था हेतु उन्होंने पुलिस प्रमुख श्री सुंजय कुंडू  तथा विभाग के अन्य सभी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ इस सत्र के आयोजन से जुड़े सभी विभागाध्यक्षों के साथ दो दिन पूर्व एक बैठक की थी । उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि सभी सत्र के आयोजन में कोई कोताही न बरतें तथा समय रहते अपना कार्य पूरा करें। साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जाये तथा बिना पास के कोई भी परिसर में प्रवेश न पायें।

परमार ने कहा कि सत्र का आयोजन राष्ट्रपति महोदय कार्यालय से समय.समय पर जारी दिशा निर्देशों के अनुरूप किया जा रहा है। विधान सभा सचिवालय की ओर से सभी को छ.95 मास्क तथा सैनिटाईजर मुहैया करवाये जायेंगे। 

परमार ने कहा कि विधान सभा परिसर तथा सदन को पूरी तरह से सैनिटाईज किया जायेगा व हर मुख्य द्वार पर पैडलद्वारा स्वचालित सैनिटाईजर से लैस मशीनें रखी जायेंगी। परिसर में प्रवेश से पूर्व सभी की थर्मल स्कैनिंग की जायेगी। परिसर में केवल वही प्रवेश पा सकेगा जिसे आमंत्रित किया गया है। दर्शक दीर्धा तथा पत्रकार दीर्धा में भी सामाजिक दूरी का ख्याल रखा जायेगा। राष्ट्रपति महोदय के साथ सम्पर्क में आने वाले सभी लोगों का त्ज्च्ब्त् टेस्ट होगा व चाहे कोई राजनेताए जनप्रतिनिधए सरकारी अधिकारी तथा पर्यटन विकास निगम से जुड़ा कर्मचारी जो उनकी सेवाओं के साथ जुड़ा हो। 

राष्ट्रपति के सम्बोधन तथा इस कार्यक्रम का दूरदर्शन शिमला तथा आकाशवाणी द्वारा सीधा प्रसारण किया जायेगा। सदन में सत्र समाप्ति के पश्चात राष्ट्रपति महोदय के प्रस्थान के पश्चात हिमाचल प्रदेश विधान सभा सचिवालय के डॉ0 यशवंत सिंह परमार लाईब्रेरी हॉल में पूर्ण राज्यत्व स्वर्णिम जयन्ती वर्ष पर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। जिसमें सभी आमन्त्रित अतिथिगण तथा तेरहवीं विधान सभा के सभी माननीय सदस्य मौजूद रहेंगे।

इस पर अवसर पूर्व मुख्यमंत्रियों श्री शांता कुमार तथा प्रो0 प्रेम कुमार धूमल को विशेष रूप से सम्मानित किया जायेगा। इस अवसर पर पूर्व विधान सभा अध्यक्ष तथा पूर्व सदस्य भी अपने सम्बोधन के माध्यम से अपना अनुभव सांझा करेंगे  व भविष्य की योजनाओं पर भी अपना प्रकाश डालेंगे। इस बार सभी पास राष्ट्रपति कार्यालय की अनुशंसा पर सी0 आई0 डी0 द्वारा जारी किये जायेंगे तथा कोविड के नियमों की परिपालना करते हुए मिडिया के साथियों के मात्र 31 पास जारी कर सकेंगे तथा सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग ही इस पर अन्तिम निर्णय लेगा। 

विधान सभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने कहा कि हिमाचल प्रदेश पूर्ण राज्यत्व का स्वर्णिम वर्ष मना रहा है। 25 जनवरीए 1971 को हिमाचल प्रदेश भारतीय गणराज्य का 18वां राज्य बना था। तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी ने हिमाचल के शीर्ष नेता डॉ0 यशवन्त सिंह परमार की मौजूदगी में भारी वर्फबारी के बीच हजारों हिमाचल वासियों की उपस्थिति में रिज मैदान की प्राचीर से इसकी विधिवत घोषणा की थी।

यह सौभाग्य प्रदेशवासियों को हमारे तत्कालीन राजनेताओं के अथक प्रयासों  कढ़ी मेहनत तथा अभूतपूर्व सघर्ष से प्राप्त हुआ था। हमें किस तरह से पूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त हुआ और हिमाचल प्रदेश की विकास यात्रा कहां से तथा कैसे आरम्भ हुई इसे आज के युवा तथा जनमानस तक पहुंचाने के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार ने एक महत्वपूर्ण निर्णय के माध्यम से तय किया था कि इस स्वर्णिम जयन्ती वर्ष में कुल 51 कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे तथा उसमें एक कार्यक्रम विधान सभा में एक दिवसीय विशेष सत्र का आयोजन भी शामिल है। उन्होंने कहा कि कोरोना की क्रूरता ने हालांकि इन कार्यक्रमों के आयोजनों में व्यवधान जरूर डाला है लेकिन जैसे आजकल कुछ हालात सूधरे है तो इन कार्यक्रमों को आयोजित करना शुरू कर दिया है।