राहुल गांधी ने दोहराया पुलवामा हमले के बाद मोदी के फोटो शूट कराने का आरोप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2019   10:52
राहुल गांधी ने दोहराया पुलवामा हमले के बाद मोदी के फोटो शूट कराने का आरोप

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर देश के प्रभावशाली उद्योगपतियों का 3.5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने वहीं किसानों का ऋण माफ नहीं करने का भी आरोप लगाया।

तिरुपति (आंध्र प्रदेश)। प्रधानमंत्री पर पुलवामा हमले के बाद भी फोटो शूट कराने के अपने आरोप पर कायम रहते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि नरेंद्र मोदी को इस फोटो शूट को रद्द नहीं करने के लिए ‘खुद पर शर्म’ आनी चाहिए। तिरुपति में एक जनसभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि मोदी साढ़े तीन घंटे तक खुद की फिल्म बनवाते रहे। शहीद हुए लोगों के परिवारों की सहायता करने से ज्यादा महत्वपूर्ण उनके लिए फिल्म बनाना, मुस्कराना और हंसना था। गांधी ने सबसे पहले यह आरोप बृहस्पतिवार को ट्वीट कर लगाया था जिसका भाजपा ने जोरदार खंडन किया था। भाजपा ने इसे झूठ बताते हुए कांग्रेस पर ‘सस्ती राजनीति’ करने का आरोप लगाया था।

इसे भी पढ़ें: राहुल जी, देश आपके फेक न्यूज से तंग आ चुका है: भाजपा

कांग्रेस अध्यक्ष ने मोदी सरकार पर देश के प्रभावशाली उद्योगपतियों का 3.5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ करने वहीं किसानों का ऋण माफ नहीं करने का भी आरोप लगाया। आंध्र प्रदेश में चुनाव का बिगुल फूंकते हुए गांधी ने वादा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव के बाद यदि कांग्रेस सत्ता में आती है तो राज्य को विशेष दर्जा देगी। कृषि ऋण माफी पर गांधी ने कहा कि कांग्रेस ने मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में इस संबंध में किये गये वादे को पूरा किया है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘मोदी देश में सबसे शक्तिशाली उद्योगपतियों का 3.5 लाख करोड़ रुपये का कर्ज माफ कर सकते हैं और कर्ज माफी दे सकते हैं लेकिन किसानों का ऋण माफ नहीं कर सकते।’’ गांधी ने कहा कि कांग्रेस राज्य की सत्ता में आए या नहीं, लेकिन केंद्र की सत्ता में आई तो विशेष श्रेणी का दर्जा दिया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...