J&K की जेलों में कैदी बना रहे मास्क, महीने के अंत तक बनाएंगे 1 लाख मास्क

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   17:31
J&K की जेलों में कैदी बना रहे मास्क, महीने के अंत तक बनाएंगे 1 लाख मास्क

अधिकारियों ने कहा कि जेल विभाग के प्रस्ताव को उपराज्यपाल जीसी मुर्मू के प्रशासन की अनुमति मिलने के बाद कैदियों ने पिछले महीने उच्च गुणवत्ता वाले मास्क बनाने शुरू किये थे।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर की जेलों में बंद सैंकड़ों कैदी बड़ी संख्या में मास्क बनाकर कोरोना वायरस निपटने में हाथ बंटा रहे हैं। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कहा कि जेल विभाग के प्रस्ताव को उपराज्यपाल जीसी मुर्मू के प्रशासन की अनुमति मिलने के बाद कैदियों ने पिछले महीने उच्च गुणवत्ता वाले मास्क बनाने शुरू किये थे। जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस संक्रमण के चलते अबतक छह लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से चार लोगों की मौत कश्मीर घाटी में जबकि एक-एक रोगी की मौत उधमपुर और बारामूला जिलों में हुई है। इसके आलवा 450 लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं। 

इसे भी पढ़ें: तैयारियों में जुटी DIAL, बिना मास्क के एयरपोर्ट में नहीं मिलेगी यात्रियों को एंट्री ! पढ़ें पूरी रिपोर्ट 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कश्मीर और जम्मू दोनों क्षेत्रों की जेलों में संबंधित जेल अधीक्षक की निगरानी और मार्गदर्शन में मास्क बनाने का काम जोर-शोर से चल रहा है। हमने इस महीने के अंत तक एक लाख मास्क बनाने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि कैदियों को जब बाजार में मास्क की कमी का पता चला तो उन्होंने आगे बढ़कर अपनी सेवाएं देने का प्रस्ताव रखा, जिसपर जेल महानिदेशक वी के सिंह सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। अधिकारी ने कहा कि जेल महानिदेशक मामले को प्रशासन के पास ले गए।काम शुरू करने से पहले ड्रग कंट्रोलर विभाग के विशेषज्ञों से भी सलाह ली गई। शुरू में कपड़े की कमी के बावजूद कैदियों ने प्रतिदिन 1,000 से अधिक मास्क बनाए।

इसे भी देखें : Srinagar में Covid-19 Response Call Centre से 24x7 मिल रही है हर तरह की मदद 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।