प्रियंका गांधी ने प्रयागराज में छात्रों के लॉज में तोड़फोड़ की निंदा की

Priyanka Gandhi
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पथराव के बाद ये छात्र आसपास के लॉज में जाकर छिप गए थे। पुलिस उनके लॉज में जाकर उन्हें बाहर निकालने का प्रयास कर रही थी।

प्रयागराज|  कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने मंगलवार को प्रयागराज में छात्रों के निजी लॉज में पुलिस द्वारा तोड़फोड़ का वीडियो ट्विटर पर साझा करते हुए इस घटना की निंदा की। 

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है, ‘‘प्रयागराज में पुलिस द्वारा छात्रों के लॉज और हॉस्टलों में जाकर तोड़-फोड़ करना एवं उनको पीटना बेहद निंदनीय है। प्रशासन इस दमनकारी कार्रवाई पर तुरंत रोक लगाए।

युवाओं को रोजगार की बात कहने का पूरा हक है और मैं इस लड़ाई में पूरी तरह से उनके साथ हूं।” जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय कुमार ने बताया कि यह पूरा प्रकरण कर्नलगंज थाना क्षेत्र का है।

पुलिस को सूचना मिली थी कि प्रयाग स्टेशन के पास हजार की संख्या में छात्र उपद्रव कर रहे हैं और रेलवे ट्रैक जाम कर दिया है। उन्होंने बताया, ‘‘कुछ उपद्रवी छात्रों द्वारा रेल इंजन में आग लगाने की भी आशंका जताई गई थी।

इस सूचना पर दंगा नियंत्रक उपकरणों के साथ पर्याप्त संख्या में पुलिस बल प्रयाग स्टेशन पहुंचा और छात्रों को वहां से भगाया। कुछ उपद्रवी छात्रों ने पुलिस पर पथराव किया था।’’ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पथराव के बाद ये छात्र आसपास के लॉज में जाकर छिप गए थे। पुलिस उनके लॉज में जाकर उन्हें बाहर निकालने का प्रयास कर रही थी।

इस दौरान कुछ पुलिसकर्मियों ने अनावश्यक बल का भी प्रयोग किया, ऐसा वीडियो में दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि पूरे घटनाक्रम की जांच की जा रही है और उपद्रवी छात्रों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर, जिन पुलिसकर्मियों ने अनावश्यक बल का प्रयोग किया है, उसे भी काफी गंभीरता से लिया जा रहा है और उनके खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जा रही है।

इस बीच, रेल मंत्रालय ने रेल की पटरी पर विरोध प्रदर्शन, ट्रेन संचालन में व्यवधान उत्पन्न करने और रेल की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने जैसी गैर कानूनी गतिविधियों में लिप्त लोगों को रेलवे की नौकरी से वंचित करने की बात कही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़