प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने ममता बनर्जी को रामायण भेजकर की पाठ करने की अपील

प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने ममता बनर्जी को रामायण भेजकर की पाठ करने की अपील

वही ममता बनर्जी के मंच से दिए इस बयान के बाद भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने इसे भगवान श्रीराम के अपमान से जोड़ दिया और ममता बनर्जी के खिलाफ एक अभियान छेड़ दिया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा में प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कोरियर से रामायण भेजी है। रामेश्वर शर्मा ने ममता बनर्जी से रामायण पाठ करने की भी अपील की है। दरअसल शनिवार को नेता जी सुभाष चंद्र बोस की जयंति के अवसर पर कोलकता में आयोजित पराक्रम दिवस के कार्यक्रम श्रीराम के नारे लागने पर ममता बनर्जी ने आपत्ति ली थी। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी उपस्थित थे। 

इसे भी पढ़ें: बेटियों की सुरक्षा के लिए दृढ़ संकल्पित है भाजपा सरकार-विष्णुदत्त शर्मा

कोलकता में आयोजित इस कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भाषण से पहले वहाँ उपस्थित कुछ लोगों ने जय श्रीराम के नारे लगाए थे। जिस पर ममता बनर्जी ने आपत्ति लेते हुए कहा था कि यह कोई राजनीतिक पार्टी का कार्यक्रम नहीं है बल्कि एक सरकारी कार्यक्रम है किसी को आमंत्रित करके उसे अपमानित नहीं किया जाना चाहिए। वही ममता बनर्जी के मंच से दिए इस बयान के बाद भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने इसे भगवान श्रीराम के अपमान से जोड़ दिया और ममता बनर्जी के खिलाफ एक अभियान छेड़ दिया है। 

इसे भी पढ़ें: नेताजी के रास्ते पर चलकर देश को सक्षम और सशक्त बना रहे मोदी जीः विष्णुदत्त शर्मा

वही मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर व  भोपाल की हुजूर विधानसभा से भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने ममता बनर्जी के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए उन्हें रविवार को रामायण कोरियर की और ममता बनर्जी से अपील की है कि वह रामायण का पाठ करें। रामेश्वर शर्मा ने कहा कि आपको राम नाम से इतनी आपत्ति क्यों है। इस रामायण में सर्वे भवन्तु सुखिनः है। उन्होंने कहा कि दीदी इस रामचरित मानस में है सबका कल्याण है। राम का विरोध मत करिए जय श्रीराम बोलनी सीखो आपने पश्चिम बंगाल की धरती पर राम के नाम का अपमान किया यह ठीक नहीं है। रामेश्वर शर्मा ने कहा कि मैं रामचरित मानस की प्रति ममता दीदी को भेज रहा हूँ और उनसे इसका पाठ करने की अपील करता हूँ कि वह इसे पढ़कर भगवान श्रीराम का नारा लगाएगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।