नीतीश के पिछले 15 वर्ष के कार्यकाल को एक सुनहरे अध्याय के रूप में देख रही है जनता: राजीव रंजन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 28, 2020   15:12
नीतीश के पिछले 15 वर्ष के कार्यकाल को एक सुनहरे अध्याय के रूप में देख रही है जनता: राजीव रंजन

प्रसाद ने कहा कि जलवायु परिवर्तन से उपजी विसंगतियों को लेकर नीतीश कुमार की चिंता को पूरे हिंदुस्तान ने स्वीकारा है और जल जीवन हरियाली के युगांतर कारी कार्यक्रम के क्रियान्वयन के माध्यम से भूजल स्तर उन्नयन, हरित आवरण वृध्दि, गैर पारंपरिक ऊर्जा के लक्ष्य को पाने की दिशा में अग्रसर हुआ है, जिसकी सराहना पूरे विश्व ने की है।

पटना। जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने राज्य में समावेशी विकास, कानून का शासन, महिला सशक्तिकरण एवं कमज़ोर वर्गों तक विकास की रौशनी पहुंचाने के साथ साथ बाल विवाह, दहेज, कन्या भ्रूण हत्या जैसे सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ महाभियान चलाने का श्रेय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को देते हुए कहा कि पिछले 15 वर्ष राज्य के इतिहास के एक सुनहरे अध्याय के रूप में जनता देख रही है।

इसे भी पढ़ें: बिहार विधानसभा चुनाव 27 नवंबर तक कराना संवैधानिक अनिवार्यता, चुनाव टाला नहीं जा सकता

प्रसाद ने कहा कि जलवायु परिवर्तन से उपजी विसंगतियों को लेकर नीतीश कुमार की चिंता को पूरे हिंदुस्तान ने स्वीकारा है और जल जीवन हरियाली के युगांतर कारी कार्यक्रम के क्रियान्वयन के माध्यम से भूजल स्तर उन्नयन, हरित आवरण वृध्दि, गैर पारंपरिक ऊर्जा के लक्ष्य को पाने की दिशा में अग्रसर हुआ है, जिसकी सराहना पूरे विश्व ने की है।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच हटाए गए बिहार स्वास्थ्य विभाग के सचिव कुमावत

प्रसाद ने कहा कि ऐसा ही एक फैसला शराब बंदी का है, जिसने नीतीश को लकीर के फ़क़ीर राजनेताओं से अलग कर दिया। क्योंकि राजस्व क्षति की आशंकाओं को नकार कर महिलाओं से किये वायदे को जहाँ एक ओर पूरा किया, वहीं महिलाओं के आत्मसम्मान, सड़क दुर्घटनाओं एवं बीमारियों में कमी का लक्ष्य भी पूरा हो रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।