पंजाब में किसानों की रेल नाकेबंदी के करीब दो महीने बाद रेलवे ने चलाईं दो मालगाड़ियां

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   18:54
पंजाब में किसानों की रेल नाकेबंदी के करीब दो महीने बाद रेलवे ने चलाईं दो मालगाड़ियां

मंडलीय रेलवे प्रबंधक (फिरोजपुर मंडल) राजेश अग्रवाल ने कहा, “सोमवार दोपहर दो मालगाड़ियों का संचालन किया गया, जिनमें से एक खाली और दूसरी में समान लदा हुआ था।“

चंडीगढ़। केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के किसानों की रेल नाकेबंदी के करीब दो महीने बाद रेलवे ने सोमवार को अपने फिरोजपुर मंडल से दो मालगाड़ियों का संचालन किया। अधिकारियों ने बताया कि फिरोजपुर मंडल के तहत आने वाली सभी पटरियां का मुआयना करने के बाद मालगाड़ियों का संचालन किया गया। फिरोजपुर मंडल पंजाब, जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के एक हिस्से की जरूरतों को पूरा करता है। मंडलीय रेलवे प्रबंधक (फिरोजपुर मंडल) राजेश अग्रवाल ने कहा, “सोमवार दोपहर दो मालगाड़ियों का संचालन किया गया, जिनमें से एक खाली और दूसरी में समान लदा हुआ था।“ 

इसे भी पढ़ें: आंदोलनकारी किसानों ने 15 दिनों के लिए वापस लिया रेल रोको आंदोलन, पंजाब सरकार ने फैसले का किया स्वागत 

अग्रवाल ने कहा कि जिप्सम ले जा रही मालगाड़ी जम्मू से कठुआ होते हुए लखनऊ गई जबकि खाली मालगाड़ी को जालंधर से दिल्ली के लिए चलाया गया था। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अमृतसर से हरिद्वार के लिए यात्री ट्रेन मंगलवार सुबह जाएगी। अग्रवाल ने कहा, “ जिस तरह से चीजों की योजना बनाई गई है, उसके अनुरूप अन्य ट्रेनें भी चलेंगी।“ 

इसे भी पढ़ें: कोरोना से निपटने के लिए दिल्ली सरकार की हरसंभव मदद के लिए तैयार है पंजाब 

अग्रवाल ने बताया कि फिरोजपुर मंडल के तहत आने वाली सभी पटरियों, चाहे वे पंजाब में हो या जम्मू-कश्मीर में, उनका निरीक्षण सरकारी रेलवे पुलिस और रेलवे सुरक्षा बल ने किया है। उन्होंने बताया कि निरीक्षण सोमवार सुबह किया गया है। पंजाब में किसानों के विभिन्न संगठन केंद्र के कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं और उन्होंने सोमवार से यात्री ट्रेनों की नाकेबंदी को 15 दिन के लिए खत्म करने का ऐलान किया है। 22 और 23 अक्टूबर को छोड़कर राज्य में मालगाड़ियों का संचालन करीब दो महीने से बंद है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।