बढ़ती महंगाई पर राहुल गांधी ने साधा निशाना, कहा- BJP नफरत फैलाकर अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में जुटी

Rahul Gandhi
अभिनय आकाश । Apr 08, 2022 1:27PM
राहुल गांधी ने कहा कि इस देश को रोज़गार देने वाली रीढ़ की हड्डी(SSI यूनिट) वह टूट गई है। भारत को बांटा गया है। भारत पहले एक देश हुआ करता था। अब इसमें अलग-अलग देश बना दिए गए हैं और सबको एक दूसरे से लड़ाया जा रहा है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी राजद नेता शरद यादव के आवास पर पहुंचे हैं। हाल ही में शरद यादव लालू यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल में शामिल हुए हैं। इसी दौरान उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए बढ़ती महंगाई को लेकर सरकार पर जमकर निशाना साधा है। राहुल गांधी ने कहा कि भारत के मौज़ूदा आर्थिक हालात के संदर्भ में आने वाला वक़्त कैसा होगा इसका आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते हैं। जो आने वाला है, वह आप ने अपनी ज़िंदगी में देखा भी नहीं होगा। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस पार्षद तपन कांडू की हत्या के मामले में सीबीआई ने पुलिस अधिकारी को किया तलब

राहुल गांधी ने कहा कि इस देश को रोज़गार देने वाली रीढ़ की हड्डी(SSI यूनिट) वह टूट गई है। भारत को बांटा गया है। भारत पहले एक देश हुआ करता था। अब इसमें अलग-अलग देश बना दिए गए हैं और सबको एक दूसरे से लड़ाया जा रहा है। जब यह दर्द आएगा तो हिंसा आएगी। अभी मत मानो मेरी बात। 2-3 साल रुक जाओ, फिर देख लेना। राहुल ने कहा कि इन्होंने जो यह रीढ़ की हड्डी तोड़ी है, इसका नतीज़ा अगले 2-4 साल के अंदर आएगा और वह नतीज़ा बहुत भयंकर होगा। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब कांग्रेस में बढ़ी कलह, अकेले पड़े नवजोत सिंह सिद्धू, चौतरफा हो रहा वार

राहुल गांधी ने कहा कि जैसे रूस यूक्रेन को कह रहा है कि डोनबास और लुहांस्क आपका नहीं है। उसी तरह से चीन भारत को कह रहा है कि लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश आपका नहीं है। इसलिए उन्होंने अपने फौज वहां बैठा रखी है। जो मॉडल वहां लागू हुआ है, वह यहां भी किया जा सकता है। इससे पहले कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने भी महंगाई को लेकर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि महंगाई को लेकर कांग्रेस ने नहीं बल्कि लोगों ने मोर्चा खोला है। पेट्रोल-डीज़ल की कीमत 100 रुपए से ज़्यादा हो गई है। यह कहां का न्याय है? दुनिया में भारत तीसरे नंबर पर हैं, जहां पेट्रोल, डीज़ल की कीमतें बढ़ गई हैं। लोगों की महंगाई से कमर टूट रही है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़