राहुल द्वारा ‘खेद’ प्रकट करना दिखाता है कि उन्होंने अपना दोष मान लिया: लेखी

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 22 2019 7:23PM
राहुल द्वारा ‘खेद’ प्रकट करना दिखाता है कि उन्होंने अपना दोष मान लिया: लेखी
Image Source: Google

राफेल मामले में शीर्ष अदालत के 10 अप्रैल के आदेश को लेकर राहुल की ओर से की गई टिप्पणियों के लिए लेखी ने कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ आपराधिक अवमानना याचिका दाखिल की थी। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय से उनका अनुरोध है कि ‘‘राहुल गांधी को कड़ी से कड़ी फटकार लगाई जाए।

नयी दिल्ली। भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने सोमवार को कहा कि राफेल करार के मामले में उच्चतम न्यायालय के आदेश पर की गई अपनी टिप्पणी के सिलसिले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा ‘‘खेद’’ प्रकट करना दिखाता है कि उन्होंने ‘‘अपना दोष मान लिया’’ है। लेखी ने जोर देकर कहा कि राहुल द्वारा अपना ‘‘दोष मानने’’ का साफ मतलब है कि ‘‘यह अदालत की अवमानना है’’। उन्होंने कहा कि यह उनके इस रुख को सही ठहराता है कि अदालतों को नीचा दिखाने और न्यायाधीशों की छवि धूमिल करने की कोशिश की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: अवमानना मामले में SC ने राहुल को भेजा नोटिस, 22 अप्रैल तक मांगा जवाब

राफेल मामले में शीर्ष अदालत के 10 अप्रैल के आदेश को लेकर राहुल की ओर से की गई टिप्पणियों के लिए लेखी ने कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ आपराधिक अवमानना याचिका दाखिल की थी। उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय से उनका अनुरोध है कि ‘‘राहुल गांधी को कड़ी से कड़ी फटकार लगाई जाए।’’

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में मतदाता सूची पर धोखे की राजनीति कर रही है दिल्ली सरकार: मीनाक्षी लेखी



नई दिल्ली लोकसभा सीट से मौजूदा सांसद लेखी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘निश्चित तौर पर यह अदालत और अवमानना करने वाले के बीच का मामला है। अदालत को आदेश पारित करना है। मैं किसी भी तरह से अदालत को प्रभावित नहीं करना चाहती। मेरा अनुरोध अदालत के समक्ष होगा।’’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video