दक्षिण में राजनीति चमकाने की कोशिश में दिशाओं में उलझे राहुल, उत्तर भारतीयों के अपमान का लगा आरोप

दक्षिण में राजनीति चमकाने की कोशिश में दिशाओं में उलझे राहुल, उत्तर भारतीयों के अपमान का लगा आरोप

अमेठी की सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर हमला बोल दिया और उन्हें एहसान फरामोश बताया। अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल जिस उत्तर भारत पर सवाल खड़े कर रहे हैं उन्हें याद रखना चाहिए कि सोनिया गांधी भी यहां से ही सांसद हैं।

केरल के तिरुवंतपुरम में राहुल गांधी ने कुछ ऐसा कह दिया कि उसको लेकर विरोधी उनपर हमलावर हो गए हैं। पंद्रह सालों तक अमेठी से सांसद रहे राहुल गांधी ने अमेठी की तुलना वायनाड के लोगों से कर दी। राहुल गांधी ने कहा कि दक्षिण के लोगों को मुद्दों की अच्छी समझ होती है। जिसके बाद विरोधियों ने सवाल उठाया कि क्या अमेठी की जनता राहुल गांधी को नासमझ नजर आती है। 

स्मृति ईरानी ने बताया एहसान फरामोश 

अमेठी की सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर हमला बोल दिया और उन्हें एहसान फरामोश बताया। अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल जिस उत्तर भारत पर सवाल खड़े कर रहे हैं उन्हें याद रखना चाहिए कि सोनिया गांधी भी यहां से ही सांसद हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी राहुल गांधी को उनकी विभाजनकारी नीति से बाज आने की नसीहत दी है।

इसे भी पढ़ें: राहुल गांधी के अलग मंत्रालय वाले बयान पर भड़के भाजपा नेता, बोले- देश में घूम-घूम कर फैलाते हैं भ्रम

दक्षिण में उत्तर के खिलाफ उगल रहे जहर: जेपी नड्डा

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट करते हुए कहा कि कुछ दिन पहले राहुल गांधी पूर्वोत्तर में थे और भारत के पश्चिमी हिस्से के खिलाफ जहर उगल रहे थे। आज वह दक्षिण में उत्तर के खिलाफ जहर उगल रहे हैं। विभाजन और शासन की राजनीति काम नहीं करेगी राहुल गांधी जी! लोगों ने इस राजनीति को खारिज कर दिया है। देखें गुजरात में आज क्या हुआ!

क्या कहा था राहुल गांधी ने

राहुल गांधी ने त्रिवेंद्रम में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि शुरुआत के 15 साल तक मैं नार्थ से एमपी था। जब मैं केरल आया तो ताजगी भरा बदलाव महसूस किया। मैंने देखा यहां के लोगों को मुद्दों की जानकारी है। वो सिर्फ ऊपरी तौर पर नहीं लोग यहां पर डिटेल में मुद्दों पर बात करते हैं।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।