बदायूं में अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम में छापेमारी, 40 आशा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   12:27
बदायूं में अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम में छापेमारी, 40 आशा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया

दायूं के जिलाधिकारी कुमार प्रशांत ने सोमवार को बताया, थाना सिविल लाइन इलाके के नवादा स्थित आयशा नर्सिंग होम में जिला प्रशासन व थाना सिविल लाइन की पुलिस ने छापेमारी की। छापेमारी के दौरान नर्सिग होम में अव्यवस्था मिली और यहां आशा कार्यकर्ताओं को उपहार भी बांटे जा रहे थे।

बदायूं। बदायूं जिले में रविवार देर शाम जिला प्रशासन और पुलिस ने छापामार कर अवैध रूप से संचालित हो रहे एक नर्सिंग होम को बंद कर दिया और वहां उपहार ले रहीं 40 आशा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। प्रशासन के अनुसार आशा कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी बर्खास्‍तगी की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बदायूं के जिलाधिकारी कुमार प्रशांत ने सोमवार को बताया, थाना सिविल लाइन इलाके के नवादा स्थित आयशा नर्सिंग होम में जिला प्रशासन व थाना सिविल लाइन की पुलिस ने छापेमारी की। छापेमारी के दौरान नर्सिग होम में अव्यवस्था मिली और यहां आशा कार्यकर्ताओं को उपहार भी बांटे जा रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में कोरोना से 13 और मरीजों की मौत, संक्रमण के 959 नए मामले

कुमार प्रशांत ने बताया, आशा कार्यकर्ताओं को प्रलोभन दिया जा रहा था कि वह ज्यादा से ज्यादा गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए नर्सिंग होम में लेकर आएं। उन्‍होंने कहा, आशाओं को उपहार बांटे जाने की सूचना प्रशासन को मिली तो टीम बनाकर छापेमारी की गई और मौके से करीब 40 आशा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है। जिलाधिकारी ने बताया, सभी आरोपी आशा कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर बर्खास्तगी की कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ ही जांच में स्वास्थ्य विभाग के जो भी अधिकारी संलिप्त पाए जाएंगे, उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई के लिए लिखा जाएगा। सभी आशाओं को सिविल लाइन थाने में भेजा गया है। पुलिस के अनुसार नर्सिंग होम सपा के एक नेता का है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।