भारी बारिश से धंसी रेल की पटरी, बलिया-छपरा रेलवे यातायात प्रभावित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2019   17:00
भारी बारिश से धंसी रेल की पटरी, बलिया-छपरा रेलवे यातायात प्रभावित

उन्होंने बताया कि इस रेल प्रखंड पर अनेक ट्रेनों को निरस्त कर दिया है तथा दूर की ट्रेनों को छपरा-भटनी-मऊ मार्ग से चलाया जा रहा है। बलिया जिले में पिछले करीब पांच दिनों से हो रही बारिश से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

बलिया (उप्र)। पूर्वोत्तर रेलवे के तहत आने वाले बलिया-छपरा रेल प्रखंड पर रविवार को भारी बारिश के कारण पटरी धंसने से यातायात पूरी तरह बाधित हो गया है। इसके अलावा बारिश से दीवार गिरने कारण एक व्यक्ति की रविवार सुबह मौत हो गयी। पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी मण्डल के जन सम्पर्क अधिकारी ने बताया कि आज तड़के सवा चार बजे भारी बारिश के कारण छपरा-बलिया रेल प्रखंड पर बलिया और बांसडीह रेलवे स्टेशन के बीच मिट्टी धंसने की सूचना मिली थी।

इसे भी पढ़ें: बारिश से बेहाल पटना में ऑटो पर पेड़ गिरा, एक बच्ची समेत चार की मौत

इसकी वजह से रेल प्रखंड पर यातायात पूरी तरह ठप हो गया। उन्होंने बताया कि इस रेल प्रखंड पर अनेक ट्रेनों को निरस्त कर दिया है तथा दूर की ट्रेनों को छपरा-भटनी-मऊ मार्ग से चलाया जा रहा है। बलिया जिले में पिछले करीब पांच दिनों से हो रही बारिश से आम जनजीवन अस्त- व्यस्त हो गया है।

इसे भी पढ़ें: जम्मू में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास बीएसएफ के जवान के डूबने की आशंका

पुलिस सूत्रों के मुताबिक भीमपुरा थाना क्षेत्र के केवलडीह गांव में रविवार सुबह बारिश के कारण दीवार गिरने से मलबे में दबकर जानकी प्रसाद (55) की मौत हो गयी। इसके अलावा उभांव थाना क्षेत्र के शाह कुंडैल गांव स्थित ईंट—भट्ठे के निकट बने बरसाती तालाब में डूब कर हरी राम राजभर (40) की मौत हो गई। इसके अलावा पकड़ी गांव में अनवरत हो रही बारिश के कारण शनिवार देर रात एक कच्चा मकान गिरने से चार लोग घायल हो गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।