सुरजेवाला पर बरसे राजीव रंजन, बोले- गुमराह न करें, स्वास्थ्य के क्षेत्र में बिहार सरकार ने किया है उत्तम प्रबंधन

rajiv ranjan
जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि डिग्री के आधार पर नौकरी देना बिहार के स्वास्थ्य व्यवस्था के साथ, इससे क्रूर कोई मजाक हो ही नहीं सकता है।

पटना। जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने बिहार के स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर जो सवाल खड़े किए हैं एवं डिग्री के आधार पर नौकरियों को दिए जाने की बात कही है वह हास्यास्पद है। दरअसल, बिहार में किसी नई सरकार को बनना है तो वह नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनेगी ऐसा जनता ने मन बना लिया है तो इसीलिए बिहार में मुख्यमंत्री पद के लिए फिलहाल तो कोई वैकेंसी है ही नहीं। उन्होंने आगे कहा कि डिग्री के आधार पर नौकरी देना बिहार के स्वास्थ्य व्यवस्था के साथ, इससे क्रूर कोई मजाक हो ही नहीं सकता है। किसी चिकित्सक को चिकित्सकीय कसौटी पर खरे बिना उसे नौकरी दे देना ऐसा हास्यास्पद कार्य सिर्फ और सिर्फ कांग्रेस ही कर सकती है। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में सामाजिक और सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक रहा NDA का शासनकाल: राजीव रंजन 

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में बिहार ने जिस बदहाल दौर को पीछे छोड़ा है जो राजद और कांग्रेस ने बिहार पर थोपा था वहां से बिहार स्वास्थ्य के क्षेत्र से मिलो आगे निकल चुका है। स्वास्थ्य व्यवस्था के मूलभूत ढांचे को मजबूत कर उत्तम स्वास्थ्य सुविधाओं की नींव डाली जा चुकी है। आज अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से लेकर सुपर स्पेशलिटी अस्पताल तक ,जिस तरह से स्वास्थ्य सुविधाओं में व्यापक सुधार हुआ है उसके बाद ऐसे बयानों का कोई औचित्य नहीं है। कोरोना संक्रमण के दौरान जो एक्टिव मामले हैं और और कोरोना संक्रमण के जो बिहार के मामले हैं वह निःसंदेह ही बिहार के बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्था के एक बड़ी तस्वीर को बयान करने के लिए काफी है।

 इसे भी देखें: CM नीतीश कुमार का नया दांव, बोले- आबादी के अनुरूप मिले आरक्षण

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़