गुजरात कैडर के IPS ने दिल्ली में संभाला कार्यभार तो केजरीवाल सरकार ने विधानसभा में क्यों पारित कर दिया प्रस्ताव?

गुजरात कैडर के IPS ने दिल्ली में संभाला कार्यभार तो केजरीवाल सरकार ने विधानसभा में क्यों पारित कर दिया प्रस्ताव?

दिल्ली विधानसभा ने केंद्र सरकार से दिल्ली पुलिस का आयुक्त नियुक्त किये गये भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के वरिष्ठ अधिकारी राकेश अस्थाना की नियुक्ति तत्काल वापस लेने की अपील करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया।

गुजरात कैडर के 1984 बैच के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना ने दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर का कार्यभार संभाल लिया है। लेकिन उनकी नियुक्ति पर नया सियासी टकराव शुरू हो गया है। कांग्रेस ने जहां नियुक्ति पर सवाल उठाए तो केजरीवाल ने विधानसभा का सत्र बुलाकर प्रस्ताव भी पारित कर दिया। 

दिल्ली सरकार ने अस्थाना की नियुक्ति के खिलाफ पास किया प्रस्ताव

दिल्ली विधानसभा ने केंद्र सरकार से दिल्ली पुलिस का आयुक्त नियुक्त किये गये भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के वरिष्ठ अधिकारी राकेश अस्थाना की नियुक्ति तत्काल वापस लेने की अपील करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया और सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) विधायकों ने ‘ तार्किक आशंका’ प्रकट की कि उनका इस्तेमाल राष्ट्रीय राजधानी में राजनीतिक विरोधियों के विरूद्ध ‘आतंक का माहौल’ पैदा करने के लिए किया जाएगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस नियुक्ति को उच्चतम न्यायालय के आदेश के खिलाफ बताया और कहा कि केंद्र सरकार को नियमों के अनुरूप नियुक्तियां करनी चाहिए।  

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के नए कमिश्नर बने राकेश अस्थाना, गुजरात कैडर के हैं IPS

कांग्रेस ने भी फैसले पर सवाल उठाए 

कांग्रेस का कहना है कि जब तीन दिन में अस्थाना का कार्यकाल खत्म हो रहा था। फिर ऐसी क्या मजबूरी थी कि अस्थाना को एक साल का एक्सटेंशन देकर दिल्ली दिल्ली में बिठाया गया।  

कौन हैं राकेश अस्थाना

जिस नाम को लेकर सियासी विवाद हो रहा है अब आपको उनके बारे में भी थोड़ा बता देते हैं। दिल्ली पुलिस कमिश्नर का पद संभालने से पहले राकेश अस्थाना बीएसएफ के डीजी रह चुके हैं। सीबीआई में भी अपनी सेवा दे चुके हैं और चारा घोटाले मामले की जांच भी कर चुके हैं।  इसके अलावा राकेश अस्थाना गोधरा एक्सप्रेस में लगी आग के जांच के अधिकारी भी रहे हैं। आसाराम और उनके बेटे नारायण साई के मामले की जांच भी राकेश अस्थाना ने ही की थी। अस्थाना के ही नेतृत्व में भगोड़े कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ अनेक कड़े एक्शन लिए गए थे। एनसीबी के डीजी रहते हुए अस्थाना ने बहुचर्चित सुशांत मामले की जांच की थी।

पद संभालते बोले अस्थाना- दिल्ली पुलिस का अतीत रहा है शानदार 

गुजरात कैडर के वरिष्ठ अधिकारी राकेश अस्थाना ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त का पदभार संभाल लिया। जिसके बाद मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैंने दिल्ली पुलिस आयुक्त के रूप में कार्यभार संभाल लिया। मैं पुलिस की बुनियादी अवधारणाओं में विश्वास करता हूं जो कानून और व्यवस्था को बनाए रखना व अपराध की रोकथाम है। यही वह बुनियादी काम है, जो हमें करने चाहिए। अगर इन चीजों को सही तरीके से किया जाए तो समाज में शांति बनी रहती है। कुछ विशेष समस्याएं हैं, जिनके लिए अलग से एसओपी (मानक संचालन प्रक्रियाएं) है। हम उसके अनुसार काम करेंगे।” अस्थाना ने अतीत के प्रदर्शनों के लिए दिल्ली पुलिस की सराहना भी की और कहा कि वह समाज में बेहतरी सुनिश्चित करने के लिए सभी के साथ मिलकर काम करने की उम्मीद करते हैं। उन्होंने कहा, “ दिल्ली पुलिस का अतीत शानदार रहा है। बल ने अतीत में बहुत अच्छे काम किए गए हैं।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।