मंदिर-मस्जिद की तस्वीर देख एंकर पर भड़के किसान नेता राकेश टिकैत, बोले- कैमरा और कलम पर बंदूक का पहरा है

Rakesh Tikait
प्रतिरूप फोटो
चुनावों से जुड़े एक कार्यक्रम में किसान नेता राकेश टिकैत भड़क गए और एंकर सौरव शर्मा पर चिल्लाने लगे। उन्होंने कहा कि चैनल वाले देश को बर्बाद करना चाहते हैं। कैमरा और कलम पर बंदूक का पहरा है। आप किसके दवाब में काम कर रहे हैं ? ऐसे में एंकर ने राकेश टिकैत से कहा कि आप हमारे मेहमान हैं।

नयी दिल्ली। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सियासत गर्माती जा रही है। इसी बीच भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत शनिवार को भड़क गए और राम जन्मभूमि मंदिर की तस्वीर की ओर इशारा करने लगे। उन्होंने कहा कि कैमरा, कलम में बंदूक का पहरा है आप यह क्या दिखाना चाहते हैं। क्या आप मंदिर और मस्जिद दिखाएंगे ? 

इसे भी पढ़ें: मुजफ्फरनगर जिले की सीट है खतौली विधानसभा, जिसने राकेश टिकैत को भी बैरंग लौटा दिया था 

हिन्दी न्यूज चैनल 'इंडिया टुडे' के कार्यक्रम में किसान नेता राकेश टिकैत भड़क गए और एंकर सौरव शर्मा पर चिल्लाने लगे। उन्होंने कहा कि चैनल वाले देश को बर्बाद करना चाहते हैं। कैमरा और कलम पर बंदूक का पहरा है। आप किसके दवाब में काम कर रहे हैं ? ऐसे में एंकर ने राकेश टिकैत से कहा कि आप हमारे मेहमान हैं। आपका स्वागत है, लेकिन आप हमें बदनाम नहीं कर सकते। आप मंच का दुरुपयोग न करें। कार्यक्रम में मंदिर भी है और मस्जिद भी है, कोई एक चीज नहीं है। इस पर टिकैत ने कहा कि आप हॉस्पिटल दिखाओ, शिक्षा दिखाओ।

एंकर ने कहा कि टिकैत साहब आप या तो नेता बन लो और कहो कि राजनीतिक पार्टी में हो। आप जैसे लोग मुद्दा बनाते हैं। मंदिर-मस्जिद का मुद्दा राजनीतिक पार्टियां बनाती हैं। राजनीतिक पार्टियां मुद्दा बनाती हैं उनसे कहिए। मैं आपसे किसान पर बातचीत कर रहा था और आप मंदिर-मस्जिद में आ गए। दरअसल, इंडिया टुडे ने अपने चुनावी कार्यक्रम में राकेश टिकैत को बुलाया था और इस दौरान किसान का मुख्यमंत्री कौन ? विषय पर बातचीत हो रही थी। 

इसे भी पढ़ें: किसके साथ जाएंगे उत्तर प्रदेश के किसान, वोट के लिए नेता लगा रहे परिक्रमा 

कार्यक्रम के पोस्टर में किसान का मुख्यमंत्री कौन ? के साथ-साथ राम मंदिर और मस्जिद की तस्वीर लगी थी। जिस पर राकेश टिकैत भड़क गए। हालांकि बाद में राकेश टिकैत मुद्दे पर वापस आते हुए किसानों के विषय पर बात करने लगे। इसी बीच राकेश टिकैत ने गन्ना भुगतान का मुद्दा उठाते हुए कहा कि पिछले एक साल से भुगतान नहीं हुआ। चीनी मिलें भुगतान में कम से कम एक साल की देरी कर रही हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा का 80-20 मॉडल अब काम नहीं करेगा। भाजपा को विकास का मॉडल लाना होगा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़