जम्मू के मांडा चिड़ियाघर में देखने को मिलेंगे दुर्लभ प्रजाति के पेड़-पौधे

जम्मू के मांडा चिड़ियाघर में देखने को मिलेंगे दुर्लभ प्रजाति के पेड़-पौधे
प्रतिरूप फोटो

कश्मीर के पर्यटकों ने बताया कि मांडा चिड़ियाघर आना हमेशा उनकी पहली प्राथमिकता थी। यहां कई तरह के जानवर देखने को मिलते हैं। एक पर्यटक ने बताया कि यह चिड़ियाघर की हमारी पहली यात्रा है, लेकिन हम इस जगह से प्यार करते हैं। यहां कई पक्षी, जानवर हैं और आसपास बहुत सुंदर है।

जम्मू। जम्मू के मांडा चिड़ियाघर पार्क में देश के विभिन्न हिस्सों से सैंकड़ों सैलानी आते हैं। मंडा चिड़ियाघर जिसे मांडा डियर पार्क भी कहा जाता है, जम्मू में एक राष्ट्रीय उद्यान है। मांडा चिड़ियाघर अमर सिंह पैलेस एंड म्यूजियम और हरि निवास पैलेस से कुछ मीटर पहले पैलेस रोड, जानीपुर, जम्मू में स्थित है। बहुत सारे लोग हर दिन मांडा चिड़ियाघर जाते हैं और अपने क़ीमती समय को चरित्र और उसकी कृतियों के साथ साझा करते हैं। इस जगह को देखने के लिए दुनिया भर से पर्यटक अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ यहां आते हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खतरे को देखते हुए J&K की सबसे बड़ी अनाज मंडी में स्वैच्छिक वीकेंड लॉकडाउन, व्यापारी कर रहे पूरा समर्थन 

प्रभासाक्षी के संवाददाता से बात करते हुए कश्मीर के पर्यटकों ने बताया कि मांडा चिड़ियाघर आना हमेशा उनकी पहली प्राथमिकता थी। यहां कई तरह के जानवर देखने को मिलते हैं। एक पर्यटक ने बताया कि यह चिड़ियाघर की हमारी पहली यात्रा है, लेकिन हम इस जगह से प्यार करते हैं। यहां कई पक्षी, जानवर हैं और आसपास बहुत सुंदर है, यहां एक बार जीवन में एक बार जरूर जाना चाहिए। उत्तराखंड के एक अन्य पर्यटक ने बताया कि मंडा देखने के लिए बहुत खूबसूरत जगह है, क्योंकि जम्मू मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है, चिड़ियाघर भी जाना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: 32 सालों बाद गणतंत्र दिवस पर कश्मीर घाटी में सर्वाधिक तिरंगे फहराये गये 

हमारी आप दर्शकों से यही गुजारिश है कि अगर आप जम्मू-कश्मीर की वादियों का लुत्फ उठाने जा रहे हैं तो फिर आपको मांडा चिड़ियाघर जरूर जाना चाहिए। इस चिड़ियाघर में हजारों किस्म के पेड़, पौधे आपको दिखाई देंगे। कहा तो यहां तक जाता है इस चिड़ियाघर में कई ऐसे जंगली पेड़-पौधे मौजूद हैं जिसके बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है। यहां पर आपको चार-पांच तरह के मोर दिखाई देंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।