धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष फिर पेश हुए रॉबर्ट वाड्रा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 20, 2019   12:15
धनशोधन मामले में प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष फिर पेश हुए रॉबर्ट वाड्रा

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ विदेश में संपत्ति खरीद में कथित रूप से धनशोधन से जुड़ी आपराधिक शिकायत दर्ज हैं। इस मामले में वाड्रा की जांच अधिकारी (आईओ) के समक्ष यह निर्धारित उपस्थिति है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा धनशोधन मामले में बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेश हुए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि वाड्रा सुबह 10 बजकर 30 मिनट पर अपने वकीलों के साथ मध्य दिल्ली के जामनगर स्थित एजेंसी के कार्यालय पहुंचे। वाड्रा के खिलाफ विदेश में संपत्ति खरीद में कथित रूप से धनशोधन से जुड़ी आपराधिक शिकायत दर्ज हैं। इस मामले में वाड्रा की जांच अधिकारी (आईओ) के समक्ष यह निर्धारित उपस्थिति है। 

इसे भी पढ़ें: रॉबर्ट वाड्रा को कोर्ट ने दी राहत, 2 मार्च तक बढ़ी गिरफ्तारी पर रोक की अवधि

वाड्रा स्वास्थ्य कारणों के चलते मंगलवार को पेश नहीं हुए थे। प्रवर्तन निदेशालय ने इस मामले में इस महीने की शुरुआत में वाड्रा से तीन दिन के दौरान 23 घंटे पूछताछ की थी। दिल्ली की एक अदालत ने उन्हें केंद्रीय जांच एजेंसी की जांच में सहयोग करने के लिये कहा था। गौरतलब है कि वाड्रा के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय का केस लंदन में संपत्ति खरीद में धनशोधन से जुड़ा है। उनपर ब्रायनस्टन स्क्वायर में 1.9 मिलियन जीबीपी (ब्रिटिश पाउंड) की संपत्ति खरीदने का आरोप है।

इसे भी पढ़ें: बीकानेर जमीन घोटाले में ED ने वाड्रा की करोड़ों रुपये की संपत्ति कुर्क की

एजेंसी ने अदालत को बताया था कि उसे लंदन में विभिन्न नई संपत्तियों की जानकारी मिली है, जिनका संबंध वाड्रा से है। इनमें दो घर शामिल हैं, एक घर की कीमत पांच मिलियन पाउंड और दूसरे घर की कीमत चार मिलियन पाउंड है। इसके अलावा छह अन्य फ्लैट और अन्य संपत्तियां हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।