RSS की उत्तराखंड के मुसलमानों को जोड़ने की पहल, भाजपा के लिए जोर-शोर से हो रहा प्रचार

BJP
अल्पसंख्यक वोटों को ध्यान में रखकर आरएसएस की मुस्लिम शाखा का उत्तराखंड में भाजपा के लिए प्रचार करेंगे।आरएसएस से संबद्ध मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम) ने हरिद्वार, उधम सिंह नगर और देहरादून जिलों के इन निर्वाचन क्षेत्रों में मौलवियों, मुस्लिम विद्वानों और समुदाय के अन्य लोगों के साथ बैठकें की हैं।

नयी दिल्ली।राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की मुस्लिम शाखा ने उत्तराखंड के उन 22 विधानसभा क्षेत्रों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पक्ष में अल्पसंख्यक समुदाय का समर्थन हासिल करने के लिए घर-घर जाकर संपर्क कार्यक्रम शुरू किया है, जहां मुस्लिम मतदाताओं की अधिक संख्या है। आरएसएस से संबद्ध मुस्लिम राष्ट्रीय मंच (एमआरएम) ने हरिद्वार, उधम सिंह नगर और देहरादून जिलों के इन निर्वाचन क्षेत्रों में मौलवियों, मुस्लिम विद्वानों और समुदाय के अन्य लोगों के साथ बैठकें की हैं।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड में गंगोत्री से बनती है सरकार, टूटेगा मिथक या रहेगा बरकरार

आरएसएस के वरिष्ठ नेता और एमआरएम के संस्थापक इंद्रेश कुमार ने रविवार को सितारगंज में अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों के साथ बैठक की अध्यक्षता की। एमआरएम के राष्ट्रीय संयोजक और मीडिया प्रभारी शाहिद सईद ने पीटीआई-को बताया, ‘‘कुमार शनिवार को काशीपुर और खटीमा में ऐसी दो बैठकों और एक दिन पहले रुद्रपुर में एक बैठक में मौजूद थे।’’ उन्होंने दावा किया कि 14 प्रतिशत वोट हिस्सेदारी के साथ 22 विधानसभा क्षेत्रों में मुस्लिम समुदाय की अच्छी खासी आबादी है, जिनमें से मुस्लिम बहुल आबादी वाले हरिद्वार में 10, उधम सिंह नगर में नौ और देहरादून में तीन विधानसभा क्षेत्र हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़