टीकाकरण का विस्तार करने के लिए कार्यस्थलों पर चलाएं अभियान : केन्द्र ने राज्यों को सलाह दी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2021   08:44
टीकाकरण का विस्तार करने के लिए कार्यस्थलों पर चलाएं अभियान : केन्द्र ने राज्यों को सलाह दी

केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है, ‘‘प्रभावशाली हस्तियों/समुदाय के नेताओं की पहचान करके उन्हें एम्बेसडर बनाया जा सकता है।वे ‘हर घर दस्तक’ से भी जुड़ सकते हैं और टीके की दोनों खुराकें लगवाने तथा समय पर टीकाकरण पूरा करने के महत्व के बारे में उचित सलाह दे सकते हैं।’’

नयी दिल्ली|  केन्द्र ने सोमवार को राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को सलाह दी कि वे कार्यस्थलों पर कोविड-19 टीकाकरण अभियान चला सकते हैं

टीका नहीं लगवाने वाले सहकर्मियों को प्रेरित/प्रोत्साहित करने के लिए अन्य कर्मचारियों को सकारात्मक संदेश वाले बैज बांट सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: देश में कोविड-19 की अब तक 116 करोड़ से अधिक खुराक दी गईं : स्वास्थ्य मंत्रालय

टीका नहीं लगवाने वालों को भी टीका लगाने के तरीके तलाश रहे केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जिलों और गांवों में प्रतिष्ठित और प्रभावशाली लोगों तथा समुदाय के नेताओं की मदद लेकर लोगों को कोविड का टीका लगाने के लिए प्रेरित करने की सलाह दी है।

राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ अवर मुख्य सचिवों, प्रधान सचिवों और सचिवों को लिखे पत्र में केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है, ‘‘प्रभावशाली हस्तियों/समुदाय के नेताओं की पहचान करके उन्हें एम्बेसडर बनाया जा सकता है।वे ‘हर घर दस्तक’ से भी जुड़ सकते हैं और टीके की दोनों खुराकें लगवाने तथा समय पर टीकाकरण पूरा करने के महत्व के बारे में उचित सलाह दे सकते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 के महाराष्ट्र में 956, जम्मू-कश्मीर में 174, तेलंगाना में 105 और गोवा में 18 नए मामले

पत्र के अनुसार, इन एम्बेसडरों की प्रक्रिया और मानदेय में एक-दूसरे को को-विन का रेफरल कोड देना भी शामिल हैं। इस कोड के लिए उनके कहने से टीका लगवाने वाले प्रत्येक व्यक्ति की संख्या को-विन के जरिए उनके नाम से जुड़ेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।