राजनीतिक फायदे के लिए सबरीमला मुद्दे को भुना रहा है संघ परिवार: विजयन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2018   18:24
राजनीतिक फायदे के लिए सबरीमला मुद्दे को भुना रहा है संघ परिवार: विजयन

विजयन ने इस बात पर जोर दिया कि सबरीमला को “हिंसा का केंद्र” नहीं बनने दिया जाएगा और उनकी सरकार मंदिर परिसर में हिंसा को अंजाम देने वालों को बख्शेगी नहीं।

तिरुवनंतपुरम। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने मंगलवार को भाजपा एवं दक्षिणपंथी संगठनों पर हमला बोलते हुए उनपर “राजनीतिक लाभ” लेने के लिए सबरीमला मुद्दे को भुनाने और भगवान अयप्पा के मंदिर पर ‘कब्जा’ करने एवं अपने नियंत्रण में लेने की कोशिश का आरोप लगाया। मंदिर में रजस्वला आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे पर जारी विरोध प्रदर्शन के बीच तीखी टिप्पणियां करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि संघ परिवार का एजेंडा मंदिर को नियंत्रण में लेने के लिए “कारसेवकों” को भेजकर परेशानी खड़ी करना और श्रद्धालुओं को “बलि की बकरा” बनाना है। 

उन्होंने यहां संवाददाता सम्मेलन में रविवार रात मंदिर परिसर से 69 लोगों की गिरफ्तारी के कदम का भी बचाव किया। उन्होंने मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति देने वाले उच्चतम न्यायालय के फैसले का विरोध करने के लिए कांग्रेस की आलोचना की। उन्होंने आरोप लगाया कि सबरीमला मुद्दे पर कांग्रेस और आरएसस “एक हो गई” है।

उनकी ये टिप्पणियां भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बयान के बाद आई है जिन्होंने एलडीएफ सरकार के सबरीमला में स्थिति को काबू करने के तरीके को “निराशाजनक” बताया और श्रद्धालुओं के साथ “गुलाग कैदियों (सोवियत संघ के दौर में एक प्रकार के बंधुआ मजदूर)” जैसा व्यवहार करने और उन्हें सुअरों के मल के बगल में रात बिताने पर मजबूर करने का आरोप लगाया।

विजयन ने इस बात पर जोर दिया कि सबरीमला को “हिंसा का केंद्र” नहीं बनने दिया जाएगा और उनकी सरकार मंदिर परिसर में हिंसा को अंजाम देने वालों को बख्शेगी नहीं। उन्होंने आरोप लगाया कि संघ परिवार “धर्म के नाम पर सबरीमला को भुना रही है” और मंदिर का नियंत्रण अपने हाथ में लेने की कोशिश कर रही है। विजयन ने कहा, “दर्शन के लिए मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं को सभी प्रकार की सुरक्षा दी जाएगी।” 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।