नहीं कम हो रही समीर वानखेड़े की मुश्किलें, अब आबकारी विभाग ने भेजा बार लाइसेंस मामले में नोटिस

Sameer Wankhede
ध्यानदेव वानखेडे का कहना है समीर की उम्र उस वक्त 17 साल 10 महीने थी। हमने यह अंदाजा लगाया था कि लाइसेंस मिलने में कुछ महीने लगेंगे और समीर 18 साल के हो जाएंगे। अगर कमेटी ने तुरंत लाइसेंस जारी कर दिया इसमें हमारी गलती कैसे हो गई? इ

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अफसर वानखेड़े के मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। अब समीर वानखेड़े को महाराष्ट्र आबकारी विभाग के ठाणे यूनिट की ओर से नोटिस भेजा गया है। यह नोटिस समीर वानखेडे के मालिकाना हक वाले बार को भेजा गया है। यह नोटिस आबकारी विभाग ने भेजा है। कहा जा रहा है कि, वर्ष 1997 में इस बार का लाइसेंस समीर वानखेडे को मिला था। यह यह नोटिस भी बार  लाइसेंस से जुड़ा हुआ है। आपको बता दें कि, महाराष्ट्र के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने आरोप लगाया था कि समीर वानखेडे ने बड़ी करके इस बार का लाइसेंस हासिल किया।

 समीर वानखेड़े को बार लाइसेंस के मामले में नोटिस भेजा गया है। नोटिस भेजने की पुष्टि आबकारी विभाग के थाने यूनिट के अफसर निलेश सांगड़े ने की है। यह नोटिस 10 दिसंबर को भेजा गया है, आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नवाब मलिक ने वानखेड़े पर आरोप लगाया है कि, जब वानखेड़े 17 साल के थे तब उन्हें नवी मुंबई स्थित बार होटल सद्गुरु का लाइसेंस दे दिया गया था। विभाग के अधिकारी के मुताबिक, यह मामला उस वक्त खुलकर आया जब समीर वानखेडे से पूछा गया कि,लाइसेंस पाते वक्त उनकी उम्र कितनी थी। इस बात का जवाब देने में समीर वानखेडे नाकाम रहे।

 अधिकारी ने बताया कि, हमने समीर वानखेडे से 17 दिसंबर से पहले जवाब देने को कहा है। इस मामले की सुनवाई ठाणे कलेक्टर के पास की जाएगी, मामले में जो कुछ भी सामने आएगा उसके अनुसार हम कार्यवाही करेंगे। उन्होंने कहा कि, जब वानखेड़े ने कोई सुबूत नहीं दिया था तो उन्हें लाइसेंस कैसे मिल गया? इस मामले की जांच भी अंदरूनी तौर पर चल रही है। इस पूरे प्रकरण पर एनसीबी अफसर के  पिता का कहना है की बार लाइसेंस हासिल करने की आयु 18 साल है और इसी आधार पर एप्लीकेशन डाला गया था।

 ध्यानदेव वानखेडे का कहना है समीर की उम्र उस वक्त 17 साल 10 महीने थी। हमने यह अंदाजा लगाया था कि लाइसेंस मिलने में कुछ महीने लगेंगे और समीर 18 साल के हो जाएंगे। अगर कमेटी ने तुरंत लाइसेंस जारी कर दिया इसमें हमारी गलती कैसे हो गई? इस पर आबकारी विभाग के अधिकारियों का कहना है लाइसेंस देने की उम्र 21 साल है। समीर वानखेड़े के पिता का कहना है, अगर विभाग मेरा लाइसेंस रद्द करना चाहता है तो उन्हें शुल्क के रूप में लिए गए लाखों रुपये भी वापस करनी चाहिए, जिसका मैंने भुगतान किया है। मैं कोर्ट जाने को तैयार हूं। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़