संजय राउत ने किया केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ PMO को सबूत सौंपना का दावा, कहा- खेल अभी शुरू हुआ है

संजय राउत ने किया केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ PMO को सबूत सौंपना का दावा, कहा- खेल अभी शुरू हुआ है

राज्यसभा सांसद संजय राउत भी केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। संजय राउत ने ट्वीट करते हुए कहा कि खेल अब शुरू हुआ है। आज प्रधानमंत्री कार्यालय के समक्ष सबूत प्रस्तुत किए हैं। कैसे केंद्रीय एजेंसियां कुछ लोगों के खिलाफ शक्तियों का दुरुपयोग कर रही है।

महाराष्ट्र में ईडी और आयकर विभाग की छापेमारी के बाद सियासी संग्राम मचा है। मंत्री नवाब मलिक की गिरफ्तारी के बाद शिवसेना कॉरपोरेटर व बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की स्थायी समिति के अध्यक्षय शवंत जाधव के घर व ठिकाने पर आईटी रेड को लेकर शिवसेना हमलावर है। उनकी पत्नी यामिनी यशवंत शिवसेना की विधायक हैं। वहीं बीजेपी की तरफ से लगातार नारायण राणे और किरिट सोमैया महाराष्ट्र की महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साध रही है। वहीं पलटवार के तौर पर शिवसेना का कहना है कि भाजपा के डर्टी डजन के नाम और कारनामे बताए जाएंगे। बीजेपी के एक दर्ज नेताओं की पोल खोली जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: शिवसेना पार्षद के ठिकानों पर आयकर विभाग ने की छापेमारी

इसके साथ ही राज्यसभा सांसद संजय राउत भी केंद्र सरकार पर हमलावर हैं। संजय राउत ने ट्वीट करते हुए कहा कि खेल अब शुरू हुआ है। आज प्रधानमंत्री कार्यालय के समक्ष सबूत प्रस्तुत किए हैं। कैसे केंद्रीय एजेंसियां कुछ लोगों के खिलाफ शक्तियों का दुरुपयोग कर रही है। कुछ अधिकारी जबरन वसूली और ब्लैकमेलिंग में वसूली एजेंटों' के माध्यम से शामिल होने पर सबूत जमा किए हैं। राउत ने कहा कि अधिक जानकारी साझा करने के लिए जल्द ही एक प्रेस कॉन्फ्रेंस किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: एक ही हवाला ऑपरेटर के जरिए मनी लॉन्ड्रिंग कर रहे हैं उद्धव ठाकरे और सोनिया गांधी? किरीट सोमैया ने लगाया बड़ा आरोप

इससे पहले शिवसेना नेताओं के घर व ठिकानों पर छापेमारी को लेकर संजय राउत ने केंद्र सरकार हमला बोलाहुए कहा था कि, “मुझे लगता है कि केवल महाराष्ट्र में आय और कर है और भाजपा शासित राज्यों में कोई आय और कर नहीं है। नगर निगम चुनाव यहां हैं... इसलिए केंद्रीय एजेंसियों के पास केवल महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में काम है, शेष भारत में कोई काम नहीं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।