कश्मीर में सेना का ‘मिशन स्माइल’, जवान ने संता बनकर घाटी में बाटें बच्चों तो तोहफे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 25, 2020   17:28
कश्मीर में सेना का ‘मिशन स्माइल’, जवान ने संता बनकर घाटी में बाटें बच्चों तो तोहफे

कश्मीर में सेना की 19 वीं राष्ट्रीय राइफल्स के सिपाही गुरविंदर सिंह को शुक्रवार को नया ‘मिशन स्माइल’ दिया गया। उनके शरीर पर हरी फौजी वर्दी की जगह लाल रंगे के परिधान थे।

लार्किपोरा (कश्मीर)। कश्मीर में सेना की 19 वीं राष्ट्रीय राइफल्स के सिपाही गुरविंदर सिंह को शुक्रवार को नया ‘मिशन स्माइल’ दिया गया। उनके शरीर पर हरी फौजी वर्दी की जगह लाल रंगे के परिधान थे। कंधों पर बंदूक की जगह तोहफों का बैग था। ‘‘फौजी’’ संता टॉफियों, चॉकलट और अन्य उपहारों के साथ घाटी के बच्चों के चेहरे पर मुस्कान बिखरने के लिए तैयार था। श्रीनगर से करीब 65 किलोमीटर दूर लार्किपोरा में राष्ट्रीय राइफल्स के शिविर में आज क्रिसमस की धूम थह और बूटों की आवाज की जगह आसपास के वेस्सू, पेथडायलगाम, ब्रेंटी, कोकरनाग, वैलू और गडोल के बच्चों की हंसी खुशी की आवाज आ रही। इन बच्चों को कमांडिंग अधिकारी ने स्थनीय लोगों के साथ तादाम्य स्थापित करने के तौर पर बुलाया था।

इसे भी पढ़ें: टीएमसी ने लगाया भाजपा पर आरोप, पश्चिम बंगाल के किसानों को गुमराह कर रही है मोदी सरकार

सेना के विक्टर फोर्स के कमांडिंग अधिकारी कर्नल धमेंद्र यादव ने कहा, ‘‘ हम विक्टर फोर्स के निर्देशन में काम कर रहे हैं और स्थानीय लोगों के साथ जुड़ रहे हैं। इस विचार का उद्देश्य बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाना है और हम वही कर रहे हैं।’’ विक्टर फोर्स पर ही दक्षिण कश्मीर के आतंकवाद प्रभावित क्षेत्रों की सुरक्षा का जिम्मा है।

इसे भी पढ़ें: वाजपेयी जी की दृष्टि ने भारत के विदेशी संपर्कों को विस्तार प्रदान किया : जयशंकर

यादव ने कहा कि यूनिट ने अपने सिपाही को संता के रूप में तैनात किया तथा उसे छोटे बच्चों एवं स्कूल जाने वाले छात्रों को छोटे छोटे उपहार देने का काम सौंपा गया। स्कूली बच्चों को करियर के बारे में परामर्श भी दिया गया। मेजर राहुल जहांगरी ने बच्चों को मन से संदेह निकाल देने और सपनों को पूरा करने में जुट जाने का आह्वान किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।