जम्मू-कश्मीर के पूर्ण एकीकरण से सरदार पटेल का सपना पूरा हुआ: खट्टर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 31, 2019   17:48
  • Like
जम्मू-कश्मीर के पूर्ण एकीकरण से सरदार पटेल का सपना पूरा हुआ: खट्टर
Image Source: Google

सरदार पटेल की जयंती को हर साल ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। रविवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री पद पर दोबारा शपथ लेने वाले खट्टर ने कहा कि पटेल की 560 रियासतों का एकीकरण कर उन्हें भारतीय संघ में परिवर्तित करने में बहुत बड़ा योगदान है।

चंडीगढ़। देश के एकीकरण में सरदार पटेल के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने गुरुवार को कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार ने जम्मू-कश्मीर का भारत के संघ में पूर्ण एकीकरण कर उनके सपने को पूरा किया है। पंचकूला में सरदार पटेल की 144वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने देश के पहले गृहमंत्री को श्रद्धांजलि अर्पित की। सरदार पटेल की जयंती को हर साल ‘राष्ट्रीय एकता दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। रविवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री पद पर दोबारा शपथ लेने वाले खट्टर ने कहा कि पटेल की 560 रियासतों का एकीकरण कर उन्हें भारतीय संघ में परिवर्तित करने में बहुत बड़ा योगदान है। 

इसे भी पढ़ें: सरदार पटेल की जयंती पर योगी ने सिखाया एकता का पाठ, बोले- देश को तोड़ने वालों के मंसूबे नहीं होने देंगे पूरे

खट्टर ने कहा, ‘‘ देश की एकता और अखंडता में उन्होंने महान कार्य किया। आजादी के समय देश 550 से अधिक रिसायतों में बंटा हुआ था। सरदार पटेल ने 562 रिसायतों का एकीकरण किया जिसका उदाहरण दुनिया में कही नहीं मिलता।’’  उन्होंने कहा, ‘‘उस समय केवल तीन रिसायत बच गयी थे लेकिन उनकी कोशिश से हैदराबाद और जूनागढ़ का एकीकरण हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘यह खुशी का विषय है कि जम्मू-कश्मीर जो पिछले 70 साल से भारत के संघ में पूर्ण तरीके से शामिल नहीं था लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने अनुच्छेद 370 को हटाकर इस बचे हुए कार्य को पूरा किया। सरदार पटेल का सपना पूरा हुआ।’’  इस मौके पर खट्टर ने वहां मौजूद बच्चों को राष्ट्रीय एकता को बचाए रखने की शपथ भी दिलायी। 

इसे भी पढ़ें: राजनाथ सिंह ने वरिष्ठ सैन्य, असैन्य अधिकारियों को राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलायी

वहीं गुरुग्राम में आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने सरदार पटेल की रिसायतों के एकीकरण में भूमिका का उल्लेख किया।  जननायक जनता पार्टी के नेता चौटाला ने कहा, ‘‘हमें खासतौर पर युवाओं को सरदार पटेल से प्रेरणा लेनी चाहिए। युवा इस देश के भविष्य हैं और उन्हें इस देश की एकता, अखंडता एवं सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए। हमें स्वतंत्रता सेनानियों जिन्होंने इस देश को बनाया उनकी कुर्बानी को याद करना चाहिए।’’ खट्टर और चौटाला ने क्रमश: पंचकूला और गुरुग्राम में आयोजित ‘एकता दौड़’ में भी हिस्सा लिया। इसी तरह के कार्यक्रम हरियाणा के सभी जिला मुख्यालयों में आयोजित किए गए।  चंडीगढ़ में भी ‘एकता दौड़’ आयोजित की गयी जिसको पंजाब के राज्यपाल एवं केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ के प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने सुखना झील के पास हरी झंडी दिखायी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


जाइडस कैडिला के प्रमुख बोले, PM के दौरे ने हमें और बेहतर करने के लिए किया प्रोत्साहित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   20:02
  • Like
जाइडस कैडिला के प्रमुख बोले, PM के दौरे ने हमें और बेहतर करने के लिए किया प्रोत्साहित
Image Source: Google

कंपनी ने इससे पहले कहा था कि उसके टीके जाकोवी-डी के पहले चरण का क्लिनिकल परीक्षण पूरा हो चुका है और अगस्त से दूसरे चरण का परीक्षण शुरू हुआ है।

अहमदाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अहमदाबाद के निकट स्थित जाइडस कैडिला इकाई का दौरा किए जाने के बाद फार्मा कंपनी का कहना है कि इससे उन्हें और बेहतर करने का प्रोत्साहन मिला है। फार्मा कंपनी अहमदाबाद के निकट स्थित अपनी इकाई में कोरोना वायरस के टीके के विकास पर काम कर रही है। प्रधानमंत्री टीके के विकास का जायजा लेने के लिए शनिवार को तीन शहरों के दौरे पर थे। कंपनी के अध्यक्ष पंकज पटेल ने एक वीडियो बयान में कहा, ‘‘आज माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने हमारे जाइडस बायोटेक पार्क का दौरा किया। इस दौरे ने हमें और तेजी से काम करने के लिए प्रोत्साहित किया है।’’

पटेल ने कहा, ‘‘समस्या के संबंध में उनका ज्ञान और उनके दिशा-निर्देश हमारे वैज्ञानिकों और हम सभी के लिए मूल्यवान हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आत्मनिर्भर भारत की ओर देश की यात्रा में... 1,800 वैज्ञानिक और जाइडस के 25,000 कर्मचारी... लगातार प्रयास कर रहे हैं और कोविड-19 के इलाज तथा उसका पता लगाने के सुरक्षित तथा प्रभावी तरीकों के ईजाद के लिए काम कर रहे हैं।’’ कंपनी ने इससे पहले कहा था कि उसके टीके जाकोवी-डी के पहले चरण का क्लिनिकल परीक्षण पूरा हो चुका है और अगस्त से दूसरे चरण का परीक्षण शुरू हुआ है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमित 19 और लोगों की मौत, 2765 नये मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   19:49
  • Like
राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमित 19 और लोगों की मौत, 2765 नये मामले
Image Source: Google

राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से 19 और मौत हुई हैं, जिससे इस घातक वायरस से मरने वालों की संख्या अब बढ़कर 2274 हो गयी।

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण के शनिवार को 2765 नये मामले सामने आये। इससे अब तक राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 2,62,805 हो गई है। वहीं, राज्य में संक्रमण से 19 और लोगों की मौत हो गई जिससे राज्य में संक्रमण से कुल मरने वालों का आंकड़ा 2274 तक पहुंच गया। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार शाम छह बजे तक बीते 24 घंटों में राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से 19 और मौत हुई हैं, जिससे इस घातक वायरस से मरने वालों की संख्या अब बढ़कर 2274 हो गयी।

इसे भी पढ़ें: राजस्‍थान के 12 जिलों के 50 नगर निकायों में पार्षद के लिए 10,191 उम्मीदवारों ने भरे पर्चे

कोरोना वायरस संक्रमण से अब तक जयपुर में 428, जोधपुर में 232, अजमेर में 181, बीकानेर में 161, कोटा में 134, भरतपुर में 103, उदयपुर में 92 और पाली में 86 लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि राज्य में अब तक कुल 2,31,780 लोग संक्रमण से ठीक हो चुके हैं। फिलहाल, राज्य में 28,751 रोगी उपचाराधीन हैं। शनिवार को सामने आए नये मामलों में जयपुर में 627, जोधपुर में 449, अजमेर में 115, कोटा में 219, अलवर में 179, उदयपुर में 110, भीलवाड़ा में 108, भरतपुर में 88, नागौर में 92 मामले शामिल हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


किसान आंदोलन को राजनीतिक दल हवा दे रहे है: मनोहर लाल खट्टर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   19:47
  • Like
किसान आंदोलन को राजनीतिक दल हवा दे रहे है: मनोहर लाल खट्टर
Image Source: Google

हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा, यह बड़ी विचि​त्र स्थिति है कि एक राज्य का मुख्यमंत्री दूसरे राज्य के अपने समकक्ष से बातचीत करना चाहता है, लेकिन कई प्रयासों के बावजूद वह इसमें सफल नहीं हो पाता है। मैं छह साल से मुख्यमंत्री हूं। इससे पहले कभी ऐसी बात नहीं हुयी। हमने विपक्षी नेताओं के साथ भी बातचीत की।

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शनिवार को आरोप लगाया कि केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ कुछ राजनीतिक दल एवं संगठन किसान आंदोलन को प्रायोजित कर रहे हैं। खट्टर ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर हमला बोला और दावा किया वह इस मसले पर उनसे बातचीत करना चाहते थे और तीन दिन तक उनके कार्यालय में टेलीफोन किया लेकिन उन्होंने इसका कोई उत्तर नहीं दिया। इसमें साजिश का दावा करते हुये, खट्टर ने गुरूग्राम में संवाददाताओं से कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री के कार्यालय के अधिकारी पंजाब के प्रदर्शनकारी किसानों को निर्देश दे रहे हैं। उन्होंने कहा इस आंदोलन की शुरूआत पंजाब के किसानों ने की है और कुछ राजनीतिक दल एवं संगठन इसे प्रायोजित कर रहे हैं। खट्टर ने दावा किया कि हरियाणा के किसानों ने इस आंदोलन में हिस्सा नहीं लिया है। उन्होंने कहा, इसके लिये मैं हरियाणा के किसानों का धन्यवाद करना चाहता हूं।

मुख्यमंत्री ने कहा, मैं हरियाणा पुलिस की भी तारीफ करता हूं कि उन्होंने पिछले दो दिन में, जब से यह मामला (दिल्ली चलो मार्च) शुरू हुआ है, उन्होंने संयम से काम लिया है और बल का इस्तेमाल नहीं किया। मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि कुछ लोग इसमें अपनी राजनीति कर रहे हैं जो बेहद निंदनीय है। यह पूछे जाने पर कि किसानों के मार्च से पहले क्या उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री से बातचीत करने का प्रयास किया, खट्टर ने कहा, मेरे कार्यालय ने मुझे बताया कि उन्होंने छह से सात बार उनसे (कैप्टन अमरिंदर सिंह से) दूरभाष पर संपर्क करने का प्रयास किया और हर बार उनके कर्मचारियों ने कहा कि हम जल्दी ही संपर्क करेंगे और उस वक्त उन्होंने यह दलील दी कि मुख्यमंत्री बैठकों में और अन्य कार्यों में व्यस्त हैं। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने कहा, यह बड़ी विचि​त्र स्थिति है कि एक राज्य का मुख्यमंत्री दूसरे राज्य के अपने समकक्ष से बातचीत करना चाहता है, लेकिन कई प्रयासों के बावजूद वह इसमें सफल नहीं हो पाता है। मैं छह साल से मुख्यमंत्री हूं। इससे पहले कभी ऐसी बात नहीं हुयी। हमने विपक्षी नेताओं के साथ भी बातचीत की। 

इसे भी पढ़ें: किसानों आंदोलन: सिंघू और टिकरी बॉर्डर बंद, दिल्ली में अहम मार्गों पर यातायात प्रभावित

खट्टर ने कहा, इससे पहले भी मैने पंजाब के मुख्यमंत्री से टेलीफोन पर बातचीत की है, वह भी तब जब वह व्यस्त थे। वह आधे या एक घंटे में वापस कॉल करते थे। इस बार तीन दिन तक उनसे संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन उन्होंने कोई उत्तर नहीं दिया। साजिश का आरोप लगाते हुये खट्टर ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारी प्रदर्शनकारियों को निर्देश दे चुके हैं। एक अन्य सवाल के उत्तर में खट्टर ने जोर देकर कहा कि किसानों को केंद्र सरकार से बातचीत करनी चाहिये। इस बीच हरियाणा के गृह मंत्री ​अनिल विज ने अम्बाला में कहा कि देश के शेष हिस्से में किसान नये कृषि कानूनों को स्वीकार कर चुके हैं लेकिन पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह एवं राजनीतिक कारणों से किसान आंदोलन कर रहे हैं। विज ने उम्मीद जतायी कि किसानों को ब​हुत जल्दी यह महसूस होगा कि ये कानून उनके फायदे के लिये हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।