जन्माष्टमी को देखते हुए मथुरा के प्रमुख मंदिरों के आसपास सुरक्षा बढ़ाई गई

Mathura img
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने कृष्ण से जुड़ी प्रस्तुतियां देने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों से आए कलाकारों द्वारा निकाली गई शोभा यात्रा का बृहस्पतिवार को उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम का आयोजन उप्र बृज तीर्थ विकास परिषद और पर्यटन विभाग द्वारा मिलकर किया गया था।

मथुरा, 19 अगस्त।  जन्माष्टमी को देखते हुए यहां के प्रमुख मंदिरों के आसपास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। जन्माष्टमी का पर्व शुक्रवार को मनाया जाएगा। अपर पुलिस अधीक्षक (नगर) मार्तंड प्रकाश सिंह ने कहा कि कृष्ण जन्माष्टमी को देखते हुए बृजभूमि के प्रमुख मंदिरों के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है, क्योंकि हर साल जन्माष्टमी पर हजारों की संख्या में भक्त यहां पूजा अर्चना के लिए आते हैं। उन्होंने कहा कि मोबाइल और नकदी चोरी, चेन की छिनैती और महिलाओं के साथ छेड़छाड़ जैसी घटनाओं को रोकने के लिए प्रमुख मंदिरों में सादे कपड़ों में भी पुलिसकर्मी तैनात किए हैं।

कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने कृष्ण से जुड़ी प्रस्तुतियां देने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों से आए कलाकारों द्वारा निकाली गई शोभा यात्रा का बृहस्पतिवार को उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम का आयोजन उप्र बृज तीर्थ विकास परिषद और पर्यटन विभाग द्वारा मिलकर किया गया था। नगर के प्रमुख चौराहों को पट्टियों और रंग-बिरंगी लाइट से सजाया गया है। श्री कृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने कहा कि श्री कृष्ण जन्मस्थान में मध्य रात्रि अभिषेक के लिए आने वाले प्रत्येक आगंतुक को धार्मिक अनुष्ठान के बाद प्रसाद दिया जाएगा।

वृंदावन के राधा रमण, राधा दामोदर और टेढ़े खंबेवाला मंदिरों में तैयारियां जोरों पर हैं, क्योंकि इन प्राचीन मंदिरों में जन्माष्टमी शुक्रवार को रात के बजाय दिन में मनाया जाएगा। शुक्रवार की मध्य रात्रि के बाद कृष्ण के गोकुल आगमन का पर्व मनाने के लिए गोकुल में भी तैयारियां जोरों पर हैं। गोकुल के लोग जन्माष्टमी के अगले दिन कृष्ण के आगमन की खुशी में दहीखाना त्यौहार मनाते हैं, जिसमें दही और हल्दी के मिश्रण का भोग लगाया जाता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़