शर्मिला ठाकरे ने सुनाया दुबई से आए फोन कॉल का किस्सा, बोलीं- राज को जान से मारने की मिली थी धमकी

शर्मिला ठाकरे ने सुनाया दुबई से आए फोन कॉल का किस्सा, बोलीं- राज को जान से मारने की मिली थी धमकी
प्रतिरूप फोटो
Creative Commons licenses

मनसे प्रमुख राज ठाकरे की पत्नी शर्मिला ठाकरे ने बताया कि राज ठाकरे को दुबई से जान से मारने की धमकी मिली थी और मैंने फोन उठाया था। इसी बीच पत्रकार ने शर्मिला ठाकरे से पूछा कि मंच पर राज ठाकरे की आक्रामकता, उनके दौरों इत्यादि को देखकर मन में क्या हलचल है ?

मुंबई। मनसे प्रमुख राज ठाकरे के बयानों के चलते महाराष्ट्र की सियासत गर्मायी हुई है। उन्होंने जहां प्रदेश सरकार को मस्जिदों में से लाउडस्पीकर उतारने के लिए 3 मई तक का अल्टीमेटम दिया है तो वहीं राज ठाकरे औरंगाबाद में एक रैली करने वाले हैं। जिसको लेकर जमकर सियासत हो रही है। 

इसे भी पढ़ें: आज पुणे से औरंगाबाद तक मार्च, कल होगी भव्य रैली, इन 16 शर्तों के साथ राज ठाकरे को मिली सभा की इजाजत 

इसी बीच राज ठाकरे की पत्नी शर्मिला ठाकरे ने एक पुराना किस्सा सुनाया। इस किस्से को सुनकर हर कोई हैरान था। दरअसल, किस्सा दुबई से आए फोन कॉल से जुड़ा हुआ था। मराठी न्यूज चैनल एबीपी माझा के कार्यक्रम में शर्मिला ठाकरे ने राज ठाकरे से जुड़े हुए कई किस्से सुनाएं।

शर्मिला ठाकरे ने बताया कि राज ठाकरे को दुबई से जान से मारने की धमकी मिली थी और मैंने फोन उठाया था। इसी बीच पत्रकार ने शर्मिला ठाकरे से पूछा कि मंच पर राज ठाकरे की आक्रामकता, उनके दौरों इत्यादि को देखकर मन में क्या हलचल है ? इस पर उन्होंने कहा कि पहले सब कुछ लैंडलाइन पर निर्भर था। लेकिन अब मोबाइल फोन हैं, जिसकी बदौलत बातचीत आसानी से हो जाती है। 

इसे भी पढ़ें: क्या इफ्तारी में शामिल होंगे राज ठाकरे ? ओवैसी की पार्टी ने मनसे प्रमुख को दिया न्योता 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, शर्मिला ठाकरे ने पत्रकार के सवाल के जवाब में कहा कि यह सब खत्म हो गया है। लेकिन अब यह सब मोबाइल वगैरह के बारे में है। उस समय सब कुछ लैंडलाइन पर निर्भर था। फिर वे कुछ महीनों के लिए दौरे पर जाते थे और जब सर्किट हाउस पहुंचते थे तब जाकर बात होती थी। अब ऐसा कुछ नहीं है। अब मोबाइल फोन हैं और भी चीजें हैं। जिसकी बदौलत बात करना आसान हो गया है।

उन्होंने कहा कि पहले हमारे घर में कोई टेलीफोन ऑपरेटर नहीं था। तब भी राज ठाकरे को बहुत फोन आते थे और घर के लोग उसे उठाते थे। एक बार मैंने एक फोन उठाया और वह दुबई से आया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।