क्या इफ्तारी में शामिल होंगे राज ठाकरे ? ओवैसी की पार्टी ने मनसे प्रमुख को दिया न्योता

क्या इफ्तारी में शामिल होंगे राज ठाकरे ? ओवैसी की पार्टी ने मनसे प्रमुख को दिया न्योता
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

औरंगाबाद से एआईएमआईएम सांसद इम्तियाज जलील ने मनसे प्रमुख को इफ्तार की दावत का न्योता दिया। दरअसल, राज ठाकरे एक मई को औरंगाबाद में एक रैली को संबोधित करने वाले हैं। ऐसे में इम्तियाज जलील ने शहर में शांति और सद्भावना की कोशिशों के चलते राज ठाकरे को न्योता दिया।

नयी दिल्ली। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे को इफ्तार की दावत का न्यौता दिया है। जिसके बाद महाराष्ट्र की सियासत गर्मा गयी। दरअसल, रमजान का पाक महीना चल रहा है। ऐसे में मुस्लिम समुदाय के लोग रोजा रखते हैं और फिर इफ्तारी करते हैं। इसी बीच एआईएमआईएम ने राज ठाकरे को इफ्तार की दावत में शामिल होने का न्यौता दिया। 

इसे भी पढ़ें: राकांपा प्रमुख शरद पवार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, औरंगाबाद से एआईएमआईएम सांसद इम्तियाज जलील ने मनसे प्रमुख को इफ्तार की दावत का न्योता दिया। दरअसल, राज ठाकरे एक मई को औरंगाबाद में एक रैली को संबोधित करने वाले हैं। ऐसे में इम्तियाज जलील ने शहर में शांति और सद्भावना की कोशिशों के चलते राज ठाकरे को न्योता दिया। हालांकि अब यह देखना होगा कि राज ठाकरे इफ्तार में शामिल होते हैं या नहीं ? 

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे की रैली से पहले शिवसेना ने कहा, वह आक्रामकता का मुंहतोड़ जवाब दे सकती है 

सभा के लिए राज ठाकरे को मिली सशर्त अनुमति

राज ठाकरे को एक मई को औरंगाबाद में एक रैली करने की अनुमति मिल गई है। इसके लिए उन्हें 16 शर्तों का पालन करना होगा। शर्तों के मुताबिक, औरंगाबाद की रैली में 15,000 से ज्यादा लोग शामिल नहीं होने चाहिए। इसके अलावा लाउडस्पीकर की आवाज सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय किए गए डेसिबल लेवल में होनी चाहिए। दरअसल, राज ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार को 3 मई तक मस्जिदों के ऊपर से लाउडस्पीकर को हटाने का अल्टीमेटम दिया है और इसी अल्टीमेटम के बीच वह जनसभा को संबोधित करने वाले हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।