मोदी विरोध में बिना पूरा भाषण सुने शशि थरूर ने किया गलत दावा, बाद में कहा- Sorry

Shashi Tharoor
अभिनय आकाश । Mar 27, 2021 6:53PM
पीएम मोदी के भाषम के अंश पर रिएक्ट करते हुए कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा था कि पीएम मोदी ने बांग्लादेश की आजादी में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के योगदान का जिक्र नहीं किया। इसके साथ ही उन्होंने ट्वीट किया कि सभी जानते हैं कि बांग्लादेश को किसने आजाद कराया है।

विरोध की राजनीति हमेशा फायदेमंद नहीं होती हालांकि इसके भी कुछ अपवाद मिल सकते हैं। इस कैटेगरी में अगर पहला नाम लिया जाए तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी जो एक अरसे से मोदी विरोध की राजनीति करते आ रहे हैं। लेकिन अब तक कोई फायदा न तो व्यक्तिगत रूप से उन्हें और न ही पार्टी को मिलता नजर आ रहा है। हां, लगातार नुकसान जरूर कांग्रेस पार्टी को चुनावों में हो रहा है। लेकिन फिर कांग्रेस नेताओं का मोदी विरोध का सिलसिला कम होने का नाम नहीं ले रहा है। आलम ये है कि कांग्रेस नेता आधे-अधूरे तथ्य के साथ इस विरोध की रेस में शरीक होने के जद्दोजहद में लग जाते हैं और फिर अपनी फजीहत भी करा लेते हैं। ऐसा ही नाम है कांग्रेस नेता शशि थरूर का जिन्होंने पहले तो गलत तथ्य के साथ ट्वीट किया। लेकिन फिर सच्चाई का भान होने के बाद क्षमा भी मांग लिया। 

इसे भी पढ़ें: क्या गुरुवायुर सीट जानबूझकर बीजेपी ने अपने हाथों से जाने दी? जहां कभी PM मोदी को कमल के फूलों से तौला गया था

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय बांग्लादेश के दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने कल बांग्लादेश के स्वतंत्रता दिवस की स्वर्ण जयंती और बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान की जन्म शताब्दी के अवसर पर आयोजित समारोह में बांग्लादेश की आजादी के लिए सत्याग्रह करने की बात कही थी। पीएम मोदी के भाषम के अंश पर रिएक्ट करते हुए कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा था कि पीएम मोदी ने बांग्लादेश की आजादी में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के योगदान का जिक्र नहीं किया। इसके साथ ही उन्होंने ट्वीट किया कि सभी जानते हैं कि बांग्लादेश को किसने आजाद कराया है।

 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- भारत-बांग्लादेश स्थिरता, प्रेम और शांति चाहते हैं

 इंदिरा गांधी को प्रधानमंत्री ने कुछ ऐसे किया याद

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज भारतीय सेना के उन वीर जवानों को भी नमन करता हूं जो मुक्तिजुद्धो में बांग्लादेश के भाइयों-बहनों के साथ खड़े हुए। जिन्होंने मुक्तिजुद्धो में अपना लहू दिया, अपना बलिदान दिया, और आज़ाद बांग्लादेश के सपने को साकार करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि मेरी उम्र 20-22 साल रही होगी जब मैंने और मेरे कई साथियों ने बांग्लादेश के लोगों की आजादी के लिए सत्याग्रह किया था... बांग्लादेश की आजादी के लिए संघर्ष में शामिल होना, मेरे जीवन के भी पहले आंदोलनों में से एक था। इसके साथ ही ढाका के नेशनल परेड स्कवॉयर से पीएम मोदी ने बांग्लादेश की आजादी में भारत के योगदान का जिक्र करते हुए कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के प्रयास और उनकी महत्वपूर्ण भूमिका सर्वविदित है।  

थरूर ने मांगी माफी

सच्चाई मालूम पड़ते ही शशि थरूर ने इस पर तुरंत माफी मांग ली। उन्होंने लिखा, सॉरी, जब मैं गलत होता हूं तो इसे स्वीकार करने में मुझे बुरा नहीं लगता है।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़