Shekhawat ने कहा कि मोदी सरकार ने काम करने की नई परिपाटी शुरू की है

Shekhawat said Modi
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने देश में काम करने की नयीपरिपाटी शुरू की है जिससे पूरा परिदृश्य बदला है। शेखावत केन्द्र सरकार की ओर से आयोजित रोजगार मेले की कड़ी में तीसरे चरण के मेले के शुरुआत कर रहे थे।

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने देश में काम करने की नयीपरिपाटी शुरू की है जिससे पूरा परिदृश्य बदला है। शेखावत केन्द्र सरकार की ओर से आयोजित रोजगार मेले की कड़ी में तीसरे चरण के मेले के शुरुआत कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘देश के आजादी के बाद से सरकारों ने संसाधनों के अभाव में काम किया। इसलिए सरकारी कर्मचारियों की भी वैसे ही काम करने की आदत हो गई थी, लेकिन अब मोदी सरकार ने प्रचुरता के साथ काम करने की नयी पद्धति प्रारंभ की है।

इसके चलते जिस तरह से परिदृश्य बदला है।’’ शेखावत ने कहा, ‘‘आज पूरा विश्व भारत की तरफ आशा की दृष्टि से देख रहा है। इस सब के पीछे प्रधानमंत्री मोदी की प्रबल इच्छाशक्ति और दृढ़ संकल्प है कि मुझे नया शक्तिशाली व सम्पन्न देश बनाना है। भारत सरकार सुनियोजित रूप से विभिन्न संस्थानों में सहजता और सुगमता के साथ निरंतर रोजगार मुहैया करवा रही है।’’ एक बयान के अनुसार उन्होंने कहा, ‘‘सरकारी कर्मचारियों को कर्मयोगी की तरह काम करना चाहिए। उन्हें राष्ट्र निर्माण का संकल्प लेकर काम करना चाहिए, ताकि वे भी देश की उन्नति में स्वयं को भागीदार मानते हुए गर्व कर सकें।’’

वहीं शेखावत ने भर्ती परीक्षा पेपर लीक को लेकर राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राजस्थान के युवाओं का सबसे ज्यादा नुकसान कांग्रेस की सरकार ने किया। शेखावत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि पेपरलीक के कारण राज्य के युवाओं का बुरा हुआ है, राजस्थान के भविष्य और गरीबों का नुकसान हुआ है। उन्होंने दावा करते हुए कहा, ‘‘राजस्थान, जो प्रगति के पथ पर चल रहा था, वह आज पिछड़कर अंतिम पायदान के राज्यों में पहुंच चुका है। इस नुकसान की भरपाई करने में लंबा समय लगेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़