शिवसेना ने जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होने का माखौल उड़ाया, कांग्रेस को दी सलाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 11, 2021   16:09
  • Like
शिवसेना ने जितिन प्रसाद के भाजपा में शामिल होने का माखौल उड़ाया, कांग्रेस को दी सलाह

शिवसेना ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल करने के बाद भाजपा द्वारा उत्सव मनाने को ‘हस्यास्पद’ करार दिया, लेकिन साथ ही कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी को अपनी पार्टी के लिए मजबूत टीम बनाना होगा।

मुंबई। शिवसेना ने शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल करने के बाद भाजपा द्वारा उत्सव मनाने को ‘हस्यास्पद’ करार दिया, लेकिन साथ ही कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी को अपनी पार्टी के लिए मजबूत टीम बनाना होगा। उल्लेखनीय है कि अगले साल उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव से महज कुछ महीने पहले कांग्रेस नेता प्रसाद ने बुधवार को भगवा पार्टी का दामन थाम लिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रसाद (47) उत्तर प्रदेश के प्रतिष्ठित ब्राह्मण परिवार से आते हैं। शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित संपादकीय में लिखा कि युवा नेता प्रसाद कांग्रेस के लिए किसी काम के नहीं थे और भाजपा के लिए भी ऐसे ही होंगे।

इसे भी पढ़ें: प्रवर्तन निदेशालय ने टीआरएस सांसद नागेश्वर राव के कार्यालयों पर छापे मारे

शिवसेना ने कहा, ‘‘जितिन प्रसाद, ज्योतिरादित्य सिंधिया, सचिन पायलट युवा नेता हैं और उनसे बहुत अधिक उम्मीदें हैं। कांग्रेस में अहमद पटेल और राजीव सातव के निधन के बाद पहले से ही खालीपन है। यह अच्छा नहीं है कि युवा नेता भाजपा की ओर जा रहे हैं।’’ सामना ने लिखा, ‘‘उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हार का सामना करने वाले प्रसाद अंतत: भाजपा में शामिल हो गए। प्रसाद के परिवार के सदस्य कांग्रेस के वफादार रहे हैं। वह पूर्व प्रधानमंत्री मनामोहन सिंह के मंत्रिमंडल में मंत्री रहे। हालांकि, वह विधानसभा और लोकसभा चुनाव में हारते रहे। भाजपा नेता अब प्रसाद के अपनी पार्टी में शामिल होने पर जश्न मना रहे हैं। इसके पीछे उत्तर प्रदेश की जातीय राजनीति है। कहा जा सकता है कि उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण मतों पर नजर प्रसाद के भाजपा में शामिल होने का कारण है।’’

इसे भी पढ़ें: चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने शरद पवार से मुलाकात की, राजनीतिक अटकलें शुरू

शिवसेना ने सवाल करते हुए लिखा, ‘‘अगर प्रसाद की ब्राह्मण मतों पर पकड़ थी तो वे मत कांग्रेस को क्यों नहीं हस्तांतरित हुए?’’ पार्टी ने कहा कि भाजपा का पारंपरिक मतदाता अगड़ी जातियों के हैं जो पार्टी से दूर हो रहे है। शिवसेना ने कहा, ‘‘अबतक भाजपा को उत्तर प्रदेश में किसी समीकरण या चेहरे की जरूरत नहीं थी। नरेंद्र मोदी ही सब कुछ थे। राम मंदिर या हिंदुत्व मतों को जीतने के मुद्दे थे लेकिन अब स्थिति इतनी खराब हो गई है कि उन्हें प्रसाद के समर्थन की जरूरत है।’’ उद्धव ठाकरे नीत पार्टी ने कहा कि अहम मुद्दा है कि क्यों कांग्रेस नेता पार्टी छोड़ कर जा रहे हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में शामिल होने और सचिन पायलट के बागी रुख की चर्चा करते हुए शिवसेना ने कहा कि पंजाब में भी कांग्रेस के भीतर बागी हैं। ‘सामना’ ने कहा कि बगावत और गुटबाजी कांग्रेस तक सीमित नहीं है। शिवसेना ने कहा, ‘‘ केरल और असम में जीतने की स्थिति में होने के बावजूद कांग्रेस ऐसा नहीं कर सकी। उसने पुडुचेरी भी गंवा दिया लेकिन इस बात पर चर्चा नहीं होती कि कांग्रेस को आगे क्या करना चाहिए और कैसे खुद को दोबारा खड़ा करना चाहिए।

महाराष्ट्र, कर्नाटक और केरल को छोड़कर बाकी जगह कांग्रेस अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है। यह राजनीतिक असंतुलन लोकतंत्र के लिए नुकसानदेह है।’’ सामना ने लिखा कि कांग्रेस ने आजादी से पहले बहुत काम किया और उसके बाद भी। कांग्रेस ने राष्ट्र निर्माण में योगदान दिया। यहां तक कि आज भी ‘नेहरू-गांधी’ के देश की पहचान को खत्म नहीं किया जा सकता... कांग्रेस की जमीन पर मजबूत पकड़ है।’’ शिवसेना ने कहा, ‘‘कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सक्षम तरीके से पार्टी में अपनी जिम्मेदारी निभाई, अब राहुल गांधी को मजबूत टीम बनानी है जो पार्टी के समक्ष चुनौतियों का जवाब होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept