शिवराज के मंत्री ने ओवैसी को चेतावनी देते हुए कहा, आप जिन्ना बनने की कोशिश न करें

शिवराज के मंत्री ने ओवैसी को चेतावनी देते हुए कहा, आप जिन्ना बनने की कोशिश न करें

विश्वास सारंग ने आगे कहा कि इस बार वह हैदराबाद से भी बुरी तरह चुनाव हारने वाले हैं। केवल जातिगत और धर्म की राजनीति कर अपनी रोटी सेकना ओवैसी जैसे नेताओं का काम हो गया है।

एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी को लेकर देश की राजनीति लगातार गरम में रहती है। असदुद्दीन पर मुसलमानों की राजनीति करने का आरोप भी लगता है। साथ ही साथ विपक्ष के कई दल उन्हें वोट कटवा पार्टी के रूप में लगातार प्रस्तुत करते हैं। इन सबके बीच मध्यप्रदेश के शिवराज सिंह चौहान की सरकार में शामिल वरिष्ठ मंत्री विश्वास सारंग ने असदुद्दीन ओवैसी पर जमकर निशाना साधा है। असदुद्दीन पर निशाना साधते हुए विश्वास सारंग ने कहा कि असदुद्दीन ओवैसी हैदराबाद का माहौल बिगाड़ चुके हैं। देश के बाकी राज्यों में माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। BJP के शासन में किसी को इस तरह माहौल बिगाड़ने की इज़ाजत नहीं मिलेगी। उन्हें चेतावनी देना चाहता हूं कि वे जिन्ना बनने की कोशिश न करें।

विश्वास सारंग ने आगे कहा कि इस बार वह हैदराबाद से भी बुरी तरह चुनाव हारने वाले हैं। केवल जातिगत और धर्म की राजनीति कर अपनी रोटी सेकना ओवैसी जैसे नेताओं का काम हो गया है। मैं ओवैसी को बता दूँ कि यूपी में प्रचंड बहुमत से BJP की सरकार बनेगी। दिग्विजय सिंह पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि परम पूज्य मोहन भागवत जी के बारे में बात करने की हैसियत दिग्विजय सिंह जी की नहीं। स्क्रिप्टेड ट्वीट के माध्यम से वह मीडिया की सुर्ख़ियों में बने रहना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ केस दर्ज, सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का लगा आरोप

आपको बता दें कि अगले साल पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव है। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में लगातार दमखम से चुनाव लड़ने का दावा कर रही है। असदुद्दीन ओवैसी उत्तर प्रदेश में 100 से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कह चुके हैं। साथ ही साथ उत्तराखंड में भी वह 20 से ज्यादा सीटों पर ताल ठोक सकते हैं। उत्तर प्रदेश में वह मुसलमानों के पक्ष में लगातार बोल रहे हैं और यह दावा कर रहे हैं कि अगला चुनाव अगर उनकी पार्टी जीतती है तो वह जीत मुसलमानों की होगी। वह लगातार अखिलेश यादव और मायावती पर निशाना साधते हुए कहते हैं कि इन्हीं दो नेताओं की वजह से योगी आदित्यनाथ की सरकार बनी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।