शिवराज के मंत्री ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र, दिग्विजय सिंह को 'गुंडा कांग्रेस' का अध्यक्ष बनाने की मांग की

Vishvas Sarang
ANI
अंकित सिंह । Jul 30, 2022 3:16PM
पत्र लिखने के बाद विश्वास सारंग ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने ना केवल मतदाताओं को रोकने की कोशिश की है, बल्कि उन्होंने पुलिस से भी हाथापाई की। वह पहले भी जवानों के साथ मारपीट कर चुके हैं। विश्वास सारंग ने कहा कि मैंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा है।

मध्य प्रदेश की राजनीति में हाई वोल्टेज ड्रामा जारी है। पंचायत चुनाव को लेकर कांग्रेस और भाजपा आपस में भिड़ी हुई है। इन सबके बीच कांग्रेस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी खूब चर्चा में हैं। भाजपा ने दिग्विजय सिंह पर पुलिस वालों से बदसलूकी करने का आरोप लगाया है। उनका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वह एक पुलिस वाले के कॉलर पकड़े दिखाई दे रहे हैं। इसको लेकर भाजपा की ओर से जबरदस्त तरीके से दिग्विजय सिंह पर निशाना साधा जा रहा है। आज इसी कड़ी में मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री विश्वास सारंग ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक पत्र लिख दिया है।

इसे भी पढ़ें: दिग्विजय सिंह ने पुलिसकर्मी का पकड़ा कॉलर! शिवराज बोले- ऐसा अशोभनीय व्यवहार पूर्व CM को शोभा नहीं देता

पत्र लिखने के बाद विश्वास सारंग ने कहा कि दिग्विजय सिंह ने ना केवल मतदाताओं को रोकने की कोशिश की है, बल्कि उन्होंने पुलिस से भी हाथापाई की। वह पहले भी जवानों के साथ मारपीट कर चुके हैं। विश्वास सारंग ने कहा कि मैंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा है। मैंने मांग की है कि दिग्विजय सिंह को गुंडा कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया जाए। शिवराज के मंत्री ने साफ तौर पर कहा कि उनकी हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी। विश्वास सारंग ने आरोप लगाया है कि दिग्विजय सिंह ने उनके साथ भी बदतमीजी की थी। उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह की मानसिकता गुंडों वाली है। इसलिए सोनिया गांधी को उन्हें गुंडा कांग्रेस का अध्यक्ष बना देना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में पुलिसकर्मी ने की बुजुर्ग की बेरहमी से पिटाई, स्टेशन पर जमकर बरसाए लात और घूंसे, सामने आया वीडियो

पुलिस के कॉलर पकड़े जाने को लेकर भाजपा दिग्विजय सिंह पर हमलावर हो गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसको लेकर दिग्विजय सिंह की निंदा की है। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ऐसा अशोभनीय व्यवहार किसी पूर्व मुख्यमंत्री को शोभा नहीं देता है। पुलिस अफसर का कॉलर पकड़ रहे हैं, कलेक्ट्रेट के गेट को धक्का देकर तोड़ने की कोशिश कर रहे है। लोकतंत्र में जय और पराजय चलती रहती है, लेकिन ऐसी बौखलाहट कि आप पुलिस अफसर का कॉलर पकड़ें, यह अधिकार आपको किसने दिया? उन्होंने आगे कहा कि मुझे आश्चर्य है कि कोई व्यक्ति दस साल तक मुख्यमंत्री रहकर ऐसी प्रतिक्रिया दे! यह तो कांग्रेस की बौखलाहट का प्रतीक है। जमीन खिसक गई, तो गालियां दो, कॉलर पकड़ो, मैं इसकी घोर निंदा करता हूं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़