चन्नी मंत्रिमंडल के साथ करतारपुर नहीं जा पाए नवजोत सिंह सिद्धू ! जानिए इसकी वजह

चन्नी मंत्रिमंडल के साथ करतारपुर नहीं जा पाए नवजोत सिंह सिद्धू ! जानिए इसकी वजह

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, विदेश मंत्रालय ने नवजोत सिंह सिद्धू को 20 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर जाने की इजाजत दी है। नवजोत सिंह सिद्धू के मीडिया सलाहकार सुरिंदर दल्ला ने बताया कि पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष 20 नवंबर को करतारपुर साहिब जाएंगे।

चंडीगढ़। सिख समुदाय के सबसे पवित्र स्थलों में से एक करतारपुर कॉरिडोर 20 महीने के बाद एक बार पुन: खुल गया है। केंद्र सरकार ने 17 नवंबर से इसे खोलने का ऐलान किया था। इसी बीच पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को बड़ा झटका लगा है। आपको बता दें कि विदेश मंत्रालय ने नवजोत सिंह सिद्धू को 18 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर का दौरा करने की इजाजत नहीं दी है। दरअसल, मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के प्रतिनिधिमंडल के साथ नवजोत सिंह सिद्धू भी करतारपुर कॉरिडोर का दौरा करना चाहते थे लेकिन उन्हें अगले दो दिन करतारपुर जाने की इजाजत नहीं दी है। 

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान में छाए नवजोत सिंह सिद्धू, करतारपुर कॉरिडोर के खुलने का मिल रहा क्रेडिट 

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, विदेश मंत्रालय ने नवजोत सिंह सिद्धू को 20 नवंबर को करतारपुर कॉरिडोर जाने की इजाजत दी है। नवजोत सिंह सिद्धू के मीडिया सलाहकार सुरिंदर दल्ला ने बताया कि पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष 20 नवंबर को करतारपुर साहिब जाएंगे। सुरिंदर दल्ला के मुताबिक, नवजोत सिंह सिद्धू को चन्नी मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ करतारपुर जाना था।

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, 17 नवंबर से खोला जाएगा करतारपुर कॉरिडोर, पहले जत्थे में 250 लोग जाएंगे पाकिस्तान 

पाकिस्तान में सिद्धू की हो रही खूब वाहवाही

भारत की तरफ से करतारपुर कॉरिडोर के खोले जाने के बाद पाकिस्तान ने नवजोत सिंह सिद्धू की जमकर प्रशंसा की। उन्होंने करतापुर कॉरिडोर की वेबसाइट www.kartarpurcorridor.com.pk पर नवजोत सिंह सिद्धू के संदर्भ में लिखा कि भारतीय क्रिकेटर सरदार नवजोत सिंह सिद्धू ने साझा किया गया था जो पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने आए थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।