सर्वदलीय बैठक के बाद बोले एस जयशंकर, अफगानिस्तान के हालात ठीक नहीं, हर भारतीय को लाएंगे वापस

S Jaishankar
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि 31 पार्टियों के 37 नेता बैठक में मौजूद ​थे। इस मुद्दे पर सरकार और सब राजनीतिक पार्टियों की एक जैसी राय है।

नयी दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार ने गुरुवार को विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं को अफगानिस्तान की ताजा स्थिति की जानकारी दी। बैठक समाप्त होने के बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि अफगानिस्तान के हालात ठीक नहीं है। हम अपने लोगों को निकालने में जुटे हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें: तालिबानी ताकतों से भारत को सतर्क रहने की जरूरत, आंतरिक सुरक्षा के लिए है यह बड़ी चुनौती 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि 31 पार्टियों के 37 नेता बैठक में मौजूद ​थे। इस मुद्दे पर सरकार और सब राजनीतिक पार्टियों की एक जैसी राय है। उन्होंने कहा कि हमने सभी दलों के नेताओं को अफगानिस्तान की स्थिति के बारे में जानकारी दी। हमारा पूरा ध्यान लोगों को निकालने में है और सरकार इसके लिए सबकुछ कर रही है।

उन्होंने कहा कि हम ज़्यादातर भारतीयों को वापस ले आए हैं लेकिन सबको वापस नहीं लाए हैं। हम कुछ अफ़ग़ान नागरिकों को भी लाए हैं जो इस समय भारत आना चाहते थे। सरकार जल्दी से जल्दी लोगों की पूरी वापसी सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और हम काबुल में फंसे हर भारतीय को वापस लाएंगे।

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान से भारत आ रहे हिंदू और सिख परिवारों को बसाने के लिए अमित शाह को लिखा गया पत्र 

आपको बता  दें कि संसदीय सौंध में आयोजित सर्वदलीय बैठक में एस जयशंकर के अलावा राज्यसभा के नेता और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल तथा संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी भी मौजूद थे। इस बैठक में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता शरद पवार, राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, द्रमुक नेता टी आर बालू, पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा, अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल सहित कुछ अन्य नेताओं ने हिस्सा लिया। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़