कुछ लोग सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए भारत माता की जय बोलते हैं: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2018   11:15
कुछ लोग सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए भारत माता की जय बोलते हैं: गहलोत

वसुंधरा राजे उस जमात से संबंध रखती हैं जो राम का नाम लेती है तो (किंतु)चुनाव के लिए लेती है। चुनाव आते ही इनको राम याद आता है। इनको राम मिल भी गए तो वे इन्हें माफ नहीं करेंगे।

जयपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भारत माता के जय बोलने के मामले में भारतीय जनता पार्टी पर तीखा पलटवार करते हुए शनिवार को कहा कि कुछ लोग केवल राजनीतिक फायदे के लिए यह नारा लगाते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा ने राम मंदिर मुद्दे का जैसे चुनावों में इस्तेमाल किया है, उसके लिए तो भगवान राम भी उन्हें माफ नहीं करेंगे। गहलोत को वसुंधरा राजे सरकार को शराब, भूमि एवं बजरी माफिया को संरक्षण देने वाली सरकार करार दिया और कहा कि उसके ‘कुशासन’ से आजिज आई जनता सात दिसंबर को मतदान के दिन उसे जवाब देगी।

गहलोत ने दावा किया कि राज्य में कांग्रेस के पक्ष में जबरदस्त उत्साह है और पार्टी जोर शोर से सत्ता में आ रही है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह एवं मुख्यमंत्री राजे सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने बीकानेर में कांग्रेस के एक नेता द्वारा कथित तौर पर सोनिया गांधी के जयकारे लगवाए जाने की एक घटना को कांग्रेस पर निशाना साध रखा है और वे विपक्षी दल पर परिवारवाद का आरोप लगा रहे हैं। इस पर गहलोत ने यहां संवाददातओं से कहा,‘ किस हिंदुस्तानी को भारत माता की जय बोलने में संकोच होगा। लेकिन कई लोग राजनीतिक फायदे के लिए बोलते हैं कुछ दिल से बोलते हैं।

वसुंधरा राजे उस जमात से संबंध रखती हैं जो राम का नाम लेती है तो (किंतु)चुनाव के लिए लेती है। चुनाव आते ही इनको राम याद आता है। इनको राम मिल भी गए तो वे इन्हें माफ नहीं करेंगे। इनको सजा वहीं देंगे।’ गहलोत ने आरोप लगाया कि वसुंधरा राजे सरकार में जमीन, शराब व बजरी माफिया पनपा और इसमें हुए भ्रष्टाचार का पैसा ‘ऊपर तक पहुंचा।’ उन्होंने कहा, 'राजे अपनी पार्टी के अध्यक्ष के सामने झुककर प्रणाम कर रही हैं लेकिन वे पांच साल में कभी जनता से तो नहीं मिलीं। शाह के सामने झुककर प्रणाम करने से अच्छा होता अगर वह राजस्थान की जनता की परवाह करती जिसने 2013 में उन्हें इतना प्रचंड बहुमत दिया।'

उन्होंने दावा किया कि लोगों में राजे सरकार को लेकर बहुत गुस्सा है और वे पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कामकाज को याद कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के कार्यकाल में राज्य में भ्रष्टाचार चरम पर रहा और मुख्यमंत्री ने भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारियों को प्रश्रय दिया। कांग्रेस नेता ने कहा, 'कांग्रेस सरकार के शासन में, मनरेगा में 25 लाख लोग काम करते थे लेकिन अब यह संख्या घटकर सिर्फ 2.5 लाख रह गयी है।'





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।