स्वतंत्र देव सिंह का बड़ा आरोप, बोले- भ्रष्टाचार का पर्याय थी सपा सरकार

स्वतंत्र देव सिंह का बड़ा आरोप, बोले- भ्रष्टाचार का पर्याय थी सपा सरकार
प्रतिरूप फोटो
Twitter Image

अखिलेश यादव के ट्वीट पर पलटवार करते हुए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं कैबिनेट मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि योगी सरकार विकास पर पैसा खर्च कर रही है। सरकार की नजर में प्रदेश का हर नागरिक समान है। विकास और कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सभी को समान रूप से मिल रहा है।

लखनऊ। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं कैबिनेट मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने सपा मुखिया अखिलेश यादव पर सीधा हमला बोला है। उन्होंने कहा भ्रष्टाचार का पर्याय रही सपा सरकार के मुख्यमंत्री रहे अखिलेश यादव पहले अपने गिरेबान में झांके, जिनके शासन में आये दिन घोटाले होते थे। यश भारती पुरस्कार के नाम पर भारी भरकम राशि तो 'अपनो' को उपकृत करने पर ही उड़ायी जाती थी। 

इसे भी पढ़ें: अनुप्रिया पटेल: पिता की राजनीतिक विरासत को बढ़ा रहीं आगे, मोदी सरकार में हैं मंत्री 

अखिलेश यादव के ट्वीट पर पलटवार करते हुए स्वतंत्र देव ने कहा कि योगी सरकार विकास पर पैसा खर्च कर रही है। सरकार की नजर में प्रदेश का हर नागरिक समान है। विकास और कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सभी को समान रूप से मिल रहा है। मुआवजा वितरण में भी किसी के साथ कोई भेदभाव भाजपा सरकार नहीं करती है। लेकिन सपा सरकार की हर भर्ती और योजना में भ्रष्टाचार का बोलबाला था। यहाँ तक कि उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग भी इससे अछूता नही था। भर्ती में एक जाति विशेष का तो जैसे अधिकार ही हो गया था। 

इसे भी पढ़ें: यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा, हमने साबित किया कि उत्तर प्रदेश दंगामुक्त हो सकता है 

उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने यश भारती पुरस्कार की शुरुआत तो सरकारी खजाने से अपने लोगों को उपकृत के लिए ही शुरू की थी । ऐसे में अखिलेश यादव के मुंह से भ्रष्टाचार की बात हास्यास्पद है क्योंकि सपा सरकार में घोटालों की लंबी श्रृंखला ही रही है। उनके खनन मंत्री तो आजतक जेल में बंद हैं। उन्होंने अखिलेश से यह जानना चाहा कि अपराधियों और माफिया पर बुलडोजर चलने से उन्हें इतनी पीड़ा क्यों हो रही है? उन्हें यह सार्वजनिक करना चाहिए कि कब्जे की जमीन पर माफिया का निर्माण कैसे जायज हो सकता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...