केदारनाथ में आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण बेहद खुशी का क्षण : अरुण योगीराज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 5, 2021   13:53
केदारनाथ में आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण बेहद खुशी का क्षण : अरुण योगीराज

मैसुरू के मूर्तिकार अरुण योगीराज की कई महीनों की कड़ी मेहनत आखिरकार उस समय सफल हो गयी जब शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तराखंड में भगवान शिव के धाम केदारनाथ में आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण किया।

बेंगलुरू। मैसुरू के मूर्तिकार अरुण योगीराज की कई महीनों की कड़ी मेहनत आखिरकार उस समय सफल हो गयी जब शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तराखंड में भगवान शिव के धाम केदारनाथ में आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण किया। इस क्षण से बेहद प्रसन्न एवं उत्साहित योगीराज ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘यह हमारे लिए बेहद खुशी का पल है। हमने प्रतिदिन कम से कम 14 घंटे काम कर नौ महीने की कड़ी मेहनत के बाद शंकराचार्य की मूर्ति को तैयार किया।’’

इसे भी पढ़ें: नुसरत जहां ने पहली बार यश दासगुप्ता और बेटे यशन संग शेयर की तस्वीर, दीपावली तीनों ने साथ मनाई

एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद योगीराज (37) को एक आकर्षक नौकरी मिली थी, लेकिन मूर्ति बनाने का अपना पारंपरिक काम करने के लिए जल्द ही उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे दिया। योगीराज ने कहा कि जब सरकार ने शंकराचार्य की मूर्ति स्थापित करने का फैसला किया, तो इसके लिए देशभर के मूर्तिकारों से मूर्ति के नमूने आमंत्रित किए गए थे। उन्होंने कहा, ‘‘आखिरकार मेरा नमूना चुना गया और तब से प्रधानमंत्री कार्यालय निजी तौर पर इस कार्य की प्रगति की निगरानी कर रहा था।’’ उन्होंने बताया कि उन्होंने आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति बनाने के लिए मैसुरू में एचडी कोटे से काले ग्रेनाइट के पत्थर का चयन किया और सात लोगों की एक टीम के साथ इस पर काम शुरू कर दिया।

इसे भी पढ़ें: वेस्टइंडीज के हरफनमौला खिलाड़ी ब्रावो ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की

उनके मुताबिक, 12 फुट ऊंची प्रतिमा का वजन करीब 28 टन है। मूर्ति जुलाई में बनकर तैयार हो गयी थी, जिसके बाद इसे उत्तराखंड ले जाया गया। मूर्ति को भारतीय वायु सेना के चिनूक हेलीकॉप्टर की मदद से निर्धारित स्थान पर ले जाया गया। उन्होंने कहा कि परिवार में हुए एक हादसे की वजह से वह इस कार्यक्रम में जा नहीं सके।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...