नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्य से आज उठेगा पर्दा

By अभिनय आकाश | Publish Date: Jul 24 2019 10:44AM
नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्य से आज उठेगा पर्दा
Image Source: Google

बाबा के निधन के बाद उनके बक्से और उनके रहने के स्थान से मिले नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवारीजनों के साथ पुराने फोटो, पत्र और अन्य दस्तावेजों से लोग यह मानकर चल रहे थे कि गुममानी बाबा ही नेताजी सुभाष चंद्र बोस हैं। इसकी जांच के लिए भी मांग उठ रही थी।

क्या सुलझ जाएगी नेताजी की मौत की पहेली? क्या गुमनामी बाबा ही थे सुभाष चंद्र बोस? नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्‍यु हमेशा ही विवादों के घेरे में रही है। लोगों को भी समझ नहीं आया कि आखिरकार बोस कहां गायब हो गए। ऐसा अक्सर कहा जाता रहा है कि उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में रहने वाले गुमनामी बाबा का सुभाष चंद्र बोस से कोई न कोई कनेक्शन जरूर है। अयोध्या में लंबे समय तक रहे गुमनामी बाबा उर्फ भगवान जी की पहचान तय करने के लिए बने जस्टिस विष्णु आयोग की रिपोर्ट को योगी कैबिनेट में पेश किया गया।

इसे भी पढ़ें: यादव परिवार से इस चेहरे की हो सकती बीजेपी में एंट्री!

खबरों के अनुसार इस आयोग ने कहा है कि यह पता लगाना मुश्किल है कि गुमनामी बाबा असल में नेताजी सुभाष चंद्र बोस थे या नहीं। वहीं, तीन साल पहले रिटायर जज जस्टिस विष्णु सहाय की अध्यक्षता में गठित आयोग की रिपोर्ट को आज यूपी विधानसभा में पेश किया जा सकता है। विधानसभा में जांच आयोग की रिपोर्ट रखे जाने से इस जांच रिपोर्ट को सार्वजनिक किए जाने की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी हो सकेगी।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या मामले में बोले CM योगी, सुनिश्चित किया जाए समग्र विकास हो



बता दें कि फैजाबाद में लंबे समय तक रहे गुमनामी बाबा उर्फ भगवान जी के नेताजी सुभाष चंद्र बोस होने की बात सरकार के संज्ञान में आई थी। बाबा के निधन के बाद उनके बक्से और उनके रहने के स्थान से मिले नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवारीजनों के साथ पुराने फोटो, पत्र और अन्य दस्तावेजों से लोग यह मानकर चल रहे थे कि गुममानी बाबा ही नेताजी सुभाष चंद्र बोस हैं। इसकी जांच के लिए भी मांग उठ रही थी। अदालत के आदेश पर मार्च 86 से सितंबर 86 के बीच उनके सामान को 24 ट्रंकों में सील किया गया। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video