‘भावनात्मक जुड़ाव’ के साथ छात्र-छात्राओं ने किसानों के साथ एकजुटता प्रकट की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2020   15:00
‘भावनात्मक जुड़ाव’ के साथ छात्र-छात्राओं ने किसानों के साथ एकजुटता प्रकट की

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों का विरोध करने वाले किसानों के प्रदर्शन से दिल्ली-हरियाणा के सिंघू बॉर्डर पर कई विश्वविद्यालय के विद्यार्थी भी जुड़े हैं और वे ‘डफली’ लेकर किसानों की तकलीफों के गीत गा रहे हैं।

नयी दिल्ली। केंद्र सरकार के कृषि कानूनों का विरोध करने वाले किसानों के प्रदर्शन से दिल्ली-हरियाणा के सिंघू बॉर्डर पर कई विश्वविद्यालय के विद्यार्थी भी जुड़े हैं और वे ‘डफली’ लेकर किसानों की तकलीफों के गीत गा रहे हैं। पंजाब विश्वविद्यालय की छात्रा और चंडीगढ़ की रहनेवाली अर्पण ने बताया कि वह किसानों के प्रदर्शन से जुड़ी हैं क्योंकि इसका उनकी जमीन के साथ ‘भावनात्मक जुड़ाव’ है। उन्होंने कहा, ‘‘हम यहां किसानों को समर्थन देने के लिए आए हैं। हम यहां किसानों के साथ रह रहे हैं और लंगर में खाना खा रहे हैं। हम पंजाबी और हिंदी में गाना गा रहे हैं और किसानों की स्थितियों को बयां कर रहे हैं।’’

इसे भी पढ़ें: नीति आयोग के सदस्य ने कहा- नए कृषि कानूनों को ‘ठीक से समझ’ नहीं पाए हें आंदोलनकारी 

हरियाणा और पंजाब के कई हिस्सों से 25 से 30 विद्यार्थी सिंघू बॉर्डर पर आए हैं। ये विद्यार्थी सड़कों पर बैठे हैं और किसानों द्वारा झेली जा रही समस्याओं को बताते हुए तालियों और डफलियों के साथ उसे गा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: बसपा अध्‍यक्ष मायावती की केंद्र से मांग, कृषि कानूनों पर पुनर्विचार करे सरकार

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के छात्र अंकित ने कहा कि वह हरियाणा के झज्जर जिले से किसानों के साथ सिंघू बॉर्डर आए हैं। वहीं दिल्ली के भी कुछ विद्यार्थी यहां पहुंचे हैं। सिंघू बॉर्डर पर पहुंचने वाले दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़नेवाले छात्र फिरोज आलम कहते हैं, ‘‘ एक छात्र के तौर पर मैं यहां किसानों को अपना समर्थन देने आया हूं और तब तक यहां से नहीं हूटंगा जब तक मांगे मान न ली जाएं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।