मीसा भारती को तोहफे के तौर पर 318 डिसमिल जमीन मिली: सुशील मोदी

Sushil Kumar Modi trains gun at Lalu Prasad Yadav daughter Misa Bharti
बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद और उनके परिवार की संपत्ति के खुलासे की कडी में आरोप लगाया कि लालू की बडी पुत्री और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती को 2006 में 318 डिसमिल जमीन तोहफे के रूप में दी गयी थी।

पटना। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद और उनके परिवार की संपत्ति के खुलासे की कडी में आरोप लगाया कि लालू की बडी पुत्री और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती को 2006 में 318 डिसमिल जमीन तोहफे के रूप में दी गयी थी। यहां संवाददाताओं से बातचीत करते हुए सुशील ने आरोप लगाया कि मीसा भारती को पटना जिले के बिहटा थानांतर्गत कुंजवा मनेर गांव निवासी चन्द्रकान्ता देवी ने वर्ष 2006 में 318 डिसमिल जमीन तोहफे के रूप में दी गयी थी।

उन्होंने कहा कि मीसा भारती ने दावा किया था कि राजेश्वर सिंह की पत्नी चन्द्रकांता देवी उनकी सास हैं, जबकि मीसा के ससुर राम बाबू पथिक हैं, न कि राजेश्वर सिंह। सुशील ने आरोप लगाया कि चन्द्रकांता देवी ने 8 दिसम्बर 2006 को पटना जिला के मनेर के निलाप गांव में उस वक्त के हिसाब से 8 लाख 6 हजार रूपये मूल्य की 318 डिसमिल जमीन दान कर दी थी। उन्होंने दावा किया, ‘‘आश्यर्च है कि डीड में दान प्राप्तकर्ता के रूप में रोहिणी आचार्य को दिखा गया है और मीसा भारती का गवाह के नाते हस्ताक्षर है, लेकिन गिफ्ट डीड में फोटो मीसा भारती का लगा हुआ है और नीचे उनके द्वारा लिखा गया है कि मैंने गिफ्ट स्वीकार किया।’’ सुशील ने पूछा कि आखिर चन्द्रकांता देवी ने 318 डिसमिल जमीन मीसा भारती को क्यों दान कर दी? उन्होंने पूछा कि मीसा भारती ने चन्द्रकांता देवी की क्या सेवा या मदद की जिससे खुश होकर उन्होंने अपनी संतानों के रहते हुए उन्हें 318 डिसमिल जमीन दान कर दी?

सुशील ने यह भी पूछा कि आखिर चन्द्रकांता देवी ने अपनी संतानों का सम्पत्ति देने के बजाय मीसा भारती को क्यों दान कर दी? उन्होंने कहा कि बिहार निबंधन विभाग द्वारा इसकी जांच की जानी चाहिए कि किसको (रोहिणी अथवा मीसा) जमीन दान की गयी। सुशील ने कहा कि इस मामले में उचित कार्रवाई के इस जमीन से जुडे दस्तावेज को वे आयकर विभाग को सौपेंगे। राजद के प्रवक्ता और विधायक शक्ति सिंह सुशील द्वारा लगाए गए आरोप को खारिज करते हुए कहा कि इसमें कुछ भी अवैधानिक नहीं है, क्योंकि चंद्रकांता देवी उनकी ससुराली पक्ष की रिश्तेदार हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़