... तो प्रियंका टिबरेवाल के लिए नेता विपक्ष की सीट छोड़ देंगे शुभेंदु अधिकारी

... तो प्रियंका टिबरेवाल के लिए नेता विपक्ष की सीट छोड़ देंगे शुभेंदु अधिकारी

शुभेंदु अधिकारी को ममता बनर्जी के हराने का इनाम मिला और उन्हें भाजपा की ओर से नेता प्रतिपक्ष बनाया गया। इन सब के बीच शुभेंदु अधिकारी ने नेता विपक्ष का पद छोड़ने के लिए कहा है।

पश्चिम बंगाल में भवानीपुर उपचुनाव को लेकर राजनीति गर्म है। भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ता आमने-सामने है। नंदीग्राम के बाद अब भवानीपुर भी हॉट सीट भी बन गया है। इस विधानसभा क्षेत्र से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चुनाव लड़ रही हैं और चुनाव प्रचार के अंतिम दिन यहां का राजनीतिक तापमान काफी गर्मा गया। इससे पहले ममता बनर्जी को चुनाव में नंदीग्राम से शुभेंदु अधिकारी ने हराया था। शुभेंदु अधिकारी को ममता बनर्जी के हराने का इनाम मिला और उन्हें भाजपा की ओर से नेता प्रतिपक्ष बनाया गया। इन सब के बीच शुभेंदु अधिकारी ने नेता विपक्ष का पद छोड़ने के लिए कहा है। 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने भाजपा को बताया जुमला पार्टी, बोलीं- हम भारत को बांटने नहीं देंगे

शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि अगर प्रियंका टिबरेवाल ममता बनर्जी को भवानीपुर से हरा देती हैं तो वह उस कुर्सी पर बैठेंगी। शुभेंदु ने सोमवार को अपने चुनाव प्रचार में कहा कि वह ऐसा करने के लिए भाजपा नेतृत्व से अपील करेंगे। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि मैं शीर्ष नेतृत्व से कहूंगा कि अगर प्रियंका भवानीपुर से जीत हासिल करने में कामयाब होती हैं तो उनके लिए मैं कुर्सी छोड़ दूंगा। भवानीपुर उपचुनाव के लिए गुरुवार को मतदान होगा। 

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's Newsroom । IAS अफसर के सामने धर्म परिवर्तन का पाठ, गोवा में कांग्रेस को बड़ा झटका

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष को भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र में तृणमूल कांग्रेस के कथित समर्थकों ने सोमवार को धक्का दिया और उनसे दुर्व्यवहार किया, जिसके बाद उनके सुरक्षा अधिकारी को पिस्तौल निकालनी पड़ी। इसको लेकर राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने मांग की कि चुनाव आयोग घटना के दोषी लोगों के खिलाफ कार्रवाई करे। उन्होंने कहा, ‘‘यहां स्थिति नाजुक है। लेकिन भाजपा कार्यकर्ता अंतिम सांस तक लड़ेंगे और छोड़ेंगे नहीं।’’ तृणमूल के वरिष्ठ नेता मदन मित्रा ने कहा कि हर किसी को घर-घर जाकर चुनाव प्रचार करने का अधिकार है लेकिन हथियार से लोगों को धमकाने का अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘यह गोधरा या भाटपारा नहीं है, यह भवानीपुर है। भाजपा को उसके कार्यों के लिए 30 सितंबर को करारा जवाब मिलेगा।’’





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।