देश में संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून तभी तक जब तक हिंदू बहुसंख्यक हैं: नितिन पटेल

देश में संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून तभी तक जब तक हिंदू बहुसंख्यक हैं: नितिन पटेल

नितिन पटेल की यह टिप्पणी गांधीनगर के भारत माता मंदिर से आई। यह भारत माता मंदिर राज्य का यह पहला मंदिर है। जिस वक्त नितिन पटेल ने यह बयान दिया उस वक्त राज्य के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा और वीएसपी तथा आरएसएस के कई शीर्ष नेता मौजूद थे।

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कुछ ऐसा बयान दिया है जिससे आने वाले समय में बवाल बढ़ सकता है। नितिन पटेल ने बयान देते हुए कहा कि संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून की बात तब तक चलेगी जब तक हिंदू बहुसंख्यक है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि जिस दिन हिंदू अल्पसंख्यक हो जाएंगे उस दिन यह सब नहीं रहेगा। नितिन पटेल की यह टिप्पणी गांधीनगर के भारत माता मंदिर से आई। यह भारत माता मंदिर राज्य का यह पहला मंदिर है। जिस वक्त नितिन पटेल ने यह बयान दिया उस वक्त राज्य के गृह मंत्री प्रदीप सिंह जाडेजा और वीएसपी तथा आरएसएस के कई शीर्ष नेता मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के साथ हिंदू भवन का हो निर्माण: सन्त

अपने बयान में नितिन पटेल ने साफ तौर पर कहा कि हमारे देश में कुछ लोग संविधान और धर्मनिरपेक्षता की बात लगातार करते हैं। लेकिन मैं आपको बताता हूं और आप इसे वीडियो बनाकर रिकॉर्ड करना चाहते हैं तो जरूर करें, मेरे शब्दों को आप लिख ले। संविधान, धर्मनिरपेक्षता और कानून आदि की बात करने वाले ऐसा तब तक करेंगे जब तक इस देश में हिंदू बहुसंख्यक हैं। उन्होंने आगे कहा कि जिस दिन हिंदुओं की संख्या घटती है, दूसरों की वृद्धि होती है तब न धर्मनिरपेक्षता, न लोकसभा, न संविधान। सबकुछ हवा में उड़ा दिया जाएगा। कुछ भी ऐसा नहीं रहेगा। 

इसे भी पढ़ें: तालिबान को कवर फायर देने के प्रयास में हिन्दुत्व पर हमले में जुट गयी है लिबरल बिरादरी

अलग-अलग समाचार पोर्टल पर छपी खबर के मुताबिक पटेल ने अपने लगभग 37 मिनट के भाषण में आगे कहा, 'मैं सभी के बारे में बात नहीं कर रहा हूं। मुझे इसे भी स्पष्ट करना चाहिए। लाखों मुसलमान देशभक्त हैं, लाखों ईसाई देशभक्त हैं। भारतीय सशस्त्र बलों में हजारों मुसलमान हैं। गुजरात पुलिस बल में हजारों मुसलमान हैं। वे सभी देशभक्त हैं।" 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।