• तमिलनाडु में NEET से छूट वाला बिल हुआ पास, भाजपा को छोड़कर सभी दलों ने किया समर्थन

तमिलनाडु विधानसभा में नीट से छूट वाला बिल पास हो गया है। जो 12वीं के अंकों के आधार पर एमबीबीएस और बीडीएस में प्रवेश को सक्षम बनाता है। दरअसल, एक छात्र द्वारा आत्महत्या किए जाने के बाद प्रदेश में नीट का मुद्दा गर्मा गया था और इसी विषय पर विधानसभा में भी भारी हंगामा हुआ।

चेन्नई। तमिलनाडु विधानसभा में सोमवार को राष्ट्रीय प्रवेश और पात्रता परीक्षा (नीट) से छूट वाला बिल पास हो गया है। दरअसल, एक छात्र द्वारा आत्महत्या किए जाने के बाद प्रदेश में नीट का मुद्दा गर्मा गया था और इसी विषय पर विधानसभा में भी भारी हंगामा हुआ। इस बिल के जरिए प्रदेश के छात्रों को नीट से स्थायी छूट दिलाने के लिए राष्ट्रपति की मंजूरी की मांग की है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक तमिलनाडु विधानसभा में नीट से छूट वाला बिल पास हो गया है। जो 12वीं के अंकों के आधार पर एमबीबीएस और बीडीएस में छात्रों के दाखिले को मान्यता देता है। अन्नाद्रमुक ने विधेयक का समर्थन किया और भाजपा ने वाकआउट किया।

इसे भी पढ़ें: देश भर में नीट के लिए 3800 परीक्षा केंद्रों पर 95 प्रतिशत से अधिक छात्र हुए शामिल 

मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि तमिलनाडु में पहली बार नीट का आयोजन तब किया गया जब पलानीस्वामी मुख्यमंत्री थे और यह उस समय भी नहीं किया गया था जब जयललिता मुख्यमंत्री थीं। उन्होंने कहा कि हाल के वर्षों में जिन छात्रों ने भी आत्महत्याएं की वह पलानीस्वामी के मुख्यमंत्री रहते हुई।

विपक्षी दल के नेता के पलानीस्वामी ने सलेम में रविवार को आत्महत्या करने वाले 19 वर्षीय छात्र धनुष का मुद्दा उठाया और सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा कि द्रमुक ने नीट को रद्द करने का वादा किया था लेकिन यह नहीं किया गया और बहुत से छात्र इसके लिए तैयार नहीं थे। पलानीस्वामी के कुछ बयानों को विधानसभा अध्यक्ष एम अप्पवु ने रिकॉर्ड से हटा दिया।